बिहार के दरभंगा जिले में होगी एम्स की स्थापना, केंद्रीय मंत्रिमंडल ने दी योजना को मंजूरी

▴ aiims-to-be-set-up-in-darbhanga-district-of-bihar

दरभंगा में नए एम्‍स की स्‍थापना से ना केवल स्‍वास्‍थ्‍य शिक्षा और प्रशिक्षण में परिवर्तन होगा, बल्कि इस क्षेत्र में चिकित्‍सा पेशेवरों की कमी का भी समाधान होगा। नए एम्‍स की स्‍थापना से दोहरे उद्देश्य की पूर्ति हो सकेगी।


प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल ने बिहार के दरभंगा में एक नए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान (एम्‍स) की स्थापना को मंजूरी प्रदान की। इसकी स्‍थापना प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना (पीएमएसएसवाई) के तहत की जाएगी। मंत्रिमंडल ने उपरोक्त एम्स के लिए एक निदेशक पद सृजित करने को भी मंजूरी प्रदान की है जिसका मूल वेतन 2,25,000 रुपये (निर्धारित) होगा और साथ में एनपीए भी देय होगा (हालांकि वेतन और एनपीए की कुल राशि 2,37,500 रुपये से अधिक नहीं होगी)।

इस एम्‍स के निर्माण में कुल लागत 1264 करोड़ रुपये आएगी और भारत सरकार से मंजूरी मिलने की तारीख से 48 महीने की समयावधि के भीतर इसके पूरा हो जाने की संभावना है।

आम लोगों को होने वाले लाभ/विशेषताएं

• नए एम्‍स में 100 यूजी (एमबीबीएस) सीट और 60 बीएससी (नर्सिंग) सीट होंगी।

• नए एम्‍स में 15-20 सुपर स्पेशलिटी डिपार्टमेंट होंगे।

 • नए एम्‍स में 750 हॉस्पिटल बेड होंगे।

 •   वर्तमान में संचालित एम्स के आंकड़ों के अनुसार, यह उम्मीद है कि प्रत्‍येक नया एम्स रोजाना लगभग 2000 ओपीडी रोगियों और प्रति माह लगभग 1000 आईपीडी रोगियों का इलाज करेगा।

  •  निर्धारित समय पर पीजी और डीएम/एम.सीएच सुपर-स्पेशलिटी पाठ्यक्रम भी शुरू किए जाएंगे।

परियोजना का विवरण :

नई दिल्‍ली के एम्‍स और पीएमएसएसवाई के पहले चरण के तहत बनाए गए  छह अन्‍य नए एम्‍स की तर्ज पर नए एम्‍स में मोटे तौर पर अस्‍पताल, मेडिकल और नर्सिंग पाठ्यक्रमों के लिए टीचिंग ब्लॉक, आवासीय परिसर और संबद्ध सुविधाओं/सेवाओं का निर्माण किया जाएगा। नए एम्स को राष्ट्रीय महत्व के संस्थान के रूप में स्‍थापित करने का उद्देश्य है। यह क्षेत्र में गुणवत्तापूर्ण तृतीयक स्वास्थ्य सेवा, चिकित्सा शिक्षा, नर्सिंग शिक्षा और अनुसंधान प्रदान करेगा।

प्रस्‍तावित संस्‍थान 750 बेड की क्षमता वाला एक अस्पताल होगा जिसमें इमरजेंसी/ट्रॉमा बेड, आईसीयू बेड, आयुष बेड, प्राइवेट बेड और स्पेशलिटी एवं सुपर स्पेशलिटी बेड शामिल होंगे। इसके अलावा, इसमें एक मेडिकल कॉलेज, आयुष ब्लॉक, ऑडिटोरियम, नाइट शेल्टर, गेस्ट हाउस, हॉस्टल और आवासीय सुविधाएं होंगी। नए एम्‍स की स्‍थापना से पूंजीगत परिसंपत्तियों का निर्माण होगा जिसके लिए छह विशेष एम्‍स की तर्ज पर उनके संचालन और रख-रखाव के लिए जरूरी विशेष कर्मचारियों को तैयार किया जाएगा। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के पीएमएसएसवाई की योजना बजट प्रमुख से इन संस्थानों पर आवर्ती लागत ग्रांट-इन-एड के माध्यम से पूरी की जाएगी।

प्रभाव :

नए एम्‍स की स्‍थापना से ना केवल स्‍वास्‍थ्‍य शिक्षा और प्रशिक्षण में परिवर्तन होगा, बल्कि इस क्षेत्र में चिकित्‍सा पेशेवरों की कमी का भी समाधान होगा। नए एम्‍स की स्‍थापना से दोहरे उद्देश्य की पूर्ति हो सकेगी। इससे ना केवल लोगों को सुपर स्‍पेशियलिटी स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल की सुविधा मिल सकेगी बल्कि इस क्षेत्र में डॉक्टरों और अन्य स्वास्थ्य कर्मचारियों का एक बड़ा पूल बनाने में भी मदद मिलेगी जो राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के तहत प्राथमिक और माध्यमिक स्तर के संस्थानों/सुविधाओं के तहत उपलब्ध हो सकते हैं। नए एम्‍स के संचालन और रख-रखाव का खर्च भी पूरी तरह से केंद्र सरकार द्वारा वहन किया जायेगा।    

 रोजगार सृजन:

राज्‍य में नए एम्‍स की स्‍थापना से विभिन्‍न संकाय और गैर-संकाय पदों पर करीब 3,000 लोगों को रोजगार मिलेगा। इसके अलावा, नए एम्‍स के आसपास  बनने वाले शॉपिंग सेंटर, कैन्‍टीन आदि जैसी सुविधाओं और सेवाओं के कारण अप्रत्‍यक्ष रूप से रोजगार का सृजन होगा।

एम्‍स दरभंगा के बुनियादी ढांचे के निर्माण कार्य के दौरान भी पर्याप्‍त रोजगार का सृजन होगा।

यह एम्‍स, तृतीयक स्वास्थ्य देखभाल बुनियादी ढांचे में अंतर को कम करने के अलावा राज्‍य और आसपास के क्षेत्रों में गुणवत्‍तापूर्ण चिकित्‍सा शिक्षा की सुवि‍धाएं भी प्रदान करेगा। यह एम्‍स ना केवल गरीब और जरूरतमंद लोगों को सस्‍ती दरों पर अति आवश्‍यक सुपर स्‍पेशियलिटी/तृतीयक स्वास्थ्य देखभाल प्रदान करेगा, बल्कि यह राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन/स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण मंत्रालय के अन्‍य स्‍वास्‍थ्‍य कार्यक्रमों के लिए प्रशिक्षित चिकित्‍सा कर्मचारी भी उपलब्‍ध कराएगा। यह संस्‍थान शिक्षण संसाधन/ संकाय का प्रशिक्षित पूल भी तैयार करेगा जो गुणवत्‍तापूर्ण चिकित्‍सा शि‍क्षा प्रदान करेंगे।

Tags : #AIIMS #DarbhangaDistrict #HealthMinister #Bihar #NarendraModi

About the Author


Ranjeet Kumar

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल से पत्रकारिता में मास्टर डिग्री. न्यूज़ चैनल, प्रोडक्शन हाउस, एडवरटाइजिंग एजेंसी, प्रिंट मैगज़ीन और वेब साइट्स में विभिन्न भूमिकाओं यथा - हेल्थ जर्नलिज्म, फीचर रिपोर्टिंग, प्रोडक्शन और डायरेक्शन में 10 साल से ज्यादा काम करने का अनुभव.
नोट- अगर आपके पास भी कोई हेल्थ से संबंधित ख़बर या स्टोरी है, तो आप हमें मेल कर सकते हैं - [email protected] हम आपकी स्टोरी या ख़बर को https://hindi.medicircle.in पर प्रकाशित करेंगे

Related Stories

Loading Please wait...
-Advertisements-



Trending Now

डॉक्टर नितिन पटकी से जानें पोस्ट कोविड के बाद कैसे रखें अपने दिल का ख्यालSeptember 30, 2020
एमबीबीएस कोर्स में सीटों का आवंटन मौजूदा नीतियों के अनुसार होगा - JIPMERSeptember 30, 2020
महाराष्ट्र में निजी अस्पताल और डायग्नोस्टिक सेंटर मरीजों से वसूल रहे हैं मनमाना फीसSeptember 30, 2020
कोरोना संकट की वजह से महाराष्ट्र में इस बार नहीं होगा डांडिया और गरबा के कार्यक्रमSeptember 30, 2020
नेचुरोपैथी पर 2 अक्टूबर से आयोजित होने जा रहा है वेबिनार, महात्मा गांधी के स्वास्थ्य संबंधी विचारों पर होगी चर्चाSeptember 30, 2020
बस सुबह-शाम करें 20-25 मिनट सैर, रहेंगे ताउम्र फिट एंड फाइनSeptember 30, 2020
हड्डियों को कमजोर न होने दें, नहीं तो दिल हो जाएगा बीमारी का शिकार - शोध में हुआ खुलासाSeptember 30, 2020
कोरोना महामारी में आयुष मंत्रालय की भूमिका बढ़ीSeptember 30, 2020
भारत में मातृ, नवजात और बाल स्वास्थ्य में है अद्भूत सुधार - डॉ. हर्षवर्धन, स्वास्थ्य मंत्रीSeptember 30, 2020
अच्छी ख़बर देश में कोरोना से रिकवर होने वाले मरीजों की संख्या में हो रहा है तेजी से इजाफाSeptember 30, 2020
जाने उड़द दाल के अधिक सेवन से होने वाले नुकसान September 30, 2020
इम्युनिटी बूस्ट करने के लिये खूब खाएं ड्रैगन फ्रूट्सSeptember 30, 2020
क्या कोविड-19 के लिये आयुर्वेदिक इलाज हैं बेहतर, क्या कहती रिसर्च September 30, 2020
जाने आंखों के नीचे क्यूं होती है पिगमेंटेशन, ऐसे पाये छुटकाराSeptember 30, 2020
हार्ट अटैक से बचने के लिए अचूक घरेलू नुस्खाSeptember 29, 2020
अधिक मात्रा में नींबू के सेवन से हो सकता है सेहत को नुकसानSeptember 29, 2020
स्वास्थ्य मंत्री ने जारी किए कोरोना काल में सरकारी कार्यस्थल पर कामकाज के दिशा-निर्देश September 29, 2020
2 अक्टूबर 2020 को पुणे की राष्ट्रीय नेचुरोपैथी संस्थान आयोजित करेगा नेचुरोपैथी पर वेबिनार्स श्रृंखला का आयोजनSeptember 29, 2020
हार्ट की बीमारी से बचना चाहते हैं तो करें ये योगासनSeptember 29, 2020
पूरे अमेरिका में 15 करोड़ रैपिड कोविड-19 टेस्ट किट का किया जाएगा वितरणSeptember 29, 2020