कोविड - 19 से लडने में आयुर्वेद है उपयोगी - उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू

▴ ayurved-is-important-for-fight-with-corona-virus

भारतीय उद्योग परिसंघ द्वारा ‘आयुर्वेद फॉर इम्युनिटी’ विषय की थीम पर आयोजित ऑनलाइन वैश्विक आयुर्वेद शिखर सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए, श्री नायडू ने कहा कि आयुर्वेद केवल एक चिकित्सा पद्धति ही नहीं बल्कि जीवन का एक दर्शन भी है।


उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने आज कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए सुरक्षात्मक देखभाल पर आधारित आयुर्वेद के व्यापक ज्ञान का उपयोग करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि आयुर्वेद में निर्धारित प्राकृतिक उपचार से हमें अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को विकसित करके वायरस से लड़ने में सहायता प्राप्त हो सकती है।

भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) द्वारा ‘आयुर्वेद फॉर इम्युनिटी’ विषय की थीम पर आयोजित ऑनलाइन वैश्विक आयुर्वेद शिखर सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए, श्री नायडू ने कहा कि आयुर्वेद केवल एक चिकित्सा पद्धति ही नहीं बल्कि जीवन का एक दर्शन भी है।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि आयुर्वेद में मनुष्यों को प्रकृति का अभिन्न अंग माना गया है और यह जीवन के एक समग्र व्यवहार पर बल देता है, जहां पर लोग आपस में और उस दुनिया के साथ सद्भाव से जीते हैं जिससे वे घिरे हुए हैं।

आयुर्वेद के चिकित्सकीय सिद्धांतों पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि यह स्वस्थ जीवन के लिए प्राकृतिक तत्वों और मानव शरीर के त्रिदोषों के बीच एक परिपूर्ण संतुलन बनाए रखने में विश्वास करता है। उन्होंने कहा कि आयुर्वेद का मानना है कि प्रत्येक व्यक्ति की अपनी एक अनूठी शरीरावस्था होती है और वह उपचार और दवा के प्रति अलग-अलग तरीकों से प्रतिक्रिया देता है।

श्री नायडू ने प्राचीन ग्रंथों जैसे अथर्ववेद, चरक संहिता और सुश्रुत संहिता का उदाहरण देते हुए कहा कि भारत में प्राचीन काल से ही रोगों का उपचार करने के लिए बहुत ही व्यवस्थित, वैज्ञानिक और तर्कसंगत दृष्टिकोण मौजूद रहा है।

उपराष्ट्रपति ने आयुर्वेद की प्रशंसा की, जिसने भारत की विशाल जनसंख्या को प्राचीन काल से ही प्राथमिक और यहां तक कि तृतीय श्रेणी की स्वास्थ्य देखभाल सेवाएं प्रदान की है।

श्री नायडू ने सटीक रूप से प्रलेखित वैज्ञानिक साक्ष्यों के माध्यम से आयुर्वेदिक दवाओं के गुणों का और ज्यादा अन्वेषण करने की आवश्यकता के संदर्भ में बताया और उन्होंने आयुर्वेद का लाभ भारत और पूरी दुनिया के लोगों तक पहुंचाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि पारंपरिक दवाएं सस्ती होती हैं और इसे आम लोग आसानी से खरीद सकते हैं।

उन्होंने कहा कि “भारत पहले से ही दुनिया के लिए सस्ती और गुणवत्तापूर्ण दवाओं का स्रोत बना हुआ है। यह दुनिया के लिए कल्याणकारी और वैश्विक स्तर पर स्वास्थ्य एवं चिकित्सा पर्यटन क्षेत्र का सबसे पसंदीदा गंतव्य भी बन सकता है।''

उन्होंने पारंपरिक और आधुनिक चिकित्सा पद्धतियों के बीच बहुविषयक अंतःक्रिया का भी आह्वान किया जिससे वे एक-दूसरे से ज्ञान प्राप्त करें और समग्र कल्याण के लिए एक-दूसरे का समर्थन करें।

आयुर्वेद का विकास करने के लिए आधुनिक प्रौद्योगिकी का लाभ उठाने की आवश्यकता पर बल देते हुए उपराष्ट्रपति ने आयुर्वेद के दिग्गजों से राष्ट्रीय नवाचार फाउंडेशन जैसी निकायों के साथ सहयोग करने और वैश्विक स्तर पर आयुर्वेद को लोकप्रिय बनाने की दिशा में कार्य करने की भी सलाह दी।

श्री नायडू ने हमारी पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों में और ज्यादा संसाधनों का निवेश करने की भी बात की, विशेष रूप से ज्यादा से ज्यादा स्वास्थ्य स्टार्ट-अप को प्रोत्साहन और बढ़ावा देकर।

भारत में गैर-संचारी और अव्यवस्थित जीवनशैली के कारण उत्पन्न होने वाले रोगों की बढ़ती संख्याओं पर चिंता व्यक्त करते हुए, श्री नायडू ने कहा कि ऐसी परिस्थिति में आयुर्वेद विशेष रूप से प्रासंगिक साबित हो जाता है। उन्होंने सभी लोगों से स्वस्थ जीवनशैली को बनाए रखने और स्वस्थ खान-पान अपनाने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि हमारे पूर्वजों द्वारा निर्धारित किए गए खानपान हमारी शारीरिक आवश्यकताओं और जलवायु परिस्थितियों के लिए सबसे ज्यादा उपयुक्त है।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि बीमारी के प्रति चिंता और डर, बीमारी से ज्यादा घातक साबित हो सकते हैं और इस प्रकार की चिंताओं को दूर करने के लिए उन्होंने ध्यान और अध्यात्म का पालन करने की सलाह दी।

उन्होंने सभी लोगों से आयुर्वेद का लाभ प्राप्त करने के लिए आयुष्मान भारत जैसी योजनाओं का लाभ उठाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि हमें यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि हमारा बीमा क्षेत्र आयुर्वेद को अपना समर्थन प्रदान करे।

आयुर्वेद उद्योग में रोजगार का अवसर उत्पन्न करने की क्षमता को स्वीकार करते हुए, उपराष्ट्रपति ने इस क्षेश्र में कौशल विकास कार्यक्रमों को डिजाइन करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि इससे सेवाओं के निर्यात को भी बढ़ावा मिलेगा।

इस ऑनलाइन कार्यक्रम में श्री वी. मुरलीधरन, विदेश राज्य मंत्री एवं संसदीय कार्य राज्य मंत्री, श्री थॉमस जॉन मुथूट, अध्यक्ष, सीआईआई, श्री बेबी मैथ्यू, सह-संयोजक, सीआईआई आयुर्वेद पैनलों, आयुर्वेद उद्योग प्रमुखों, आयुर्वेद चिकित्सक सदस्यों, आयुर्वेद चिकित्सकों और छात्रों ने हिस्सा लिया।

Tags : #corona #coronavirus #covid #covid19

About the Author


Ranjeet Kumar

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल से पत्रकारिता में मास्टर डिग्री. न्यूज़ चैनल, प्रोडक्शन हाउस, एडवरटाइजिंग एजेंसी, प्रिंट मैगज़ीन और वेब साइट्स में विभिन्न भूमिकाओं यथा - हेल्थ जर्नलिज्म, फीचर रिपोर्टिंग, प्रोडक्शन और डायरेक्शन में 10 साल से ज्यादा काम करने का अनुभव.
नोट- अगर आपके पास भी कोई हेल्थ से संबंधित ख़बर या स्टोरी है, तो आप हमें मेल कर सकते हैं - [email protected] हम आपकी स्टोरी या ख़बर को https://hindi.medicircle.in पर प्रकाशित करेंगे

Related Stories

Loading Please wait...
-Advertisements-



Trending Now

डॉक्टर नितिन पटकी से जानें पोस्ट कोविड के बाद कैसे रखें अपने दिल का ख्यालSeptember 30, 2020
एमबीबीएस कोर्स में सीटों का आवंटन मौजूदा नीतियों के अनुसार होगा - JIPMERSeptember 30, 2020
महाराष्ट्र में निजी अस्पताल और डायग्नोस्टिक सेंटर मरीजों से वसूल रहे हैं मनमाना फीसSeptember 30, 2020
कोरोना संकट की वजह से महाराष्ट्र में इस बार नहीं होगा डांडिया और गरबा के कार्यक्रमSeptember 30, 2020
नेचुरोपैथी पर 2 अक्टूबर से आयोजित होने जा रहा है वेबिनार, महात्मा गांधी के स्वास्थ्य संबंधी विचारों पर होगी चर्चाSeptember 30, 2020
बस सुबह-शाम करें 20-25 मिनट सैर, रहेंगे ताउम्र फिट एंड फाइनSeptember 30, 2020
हड्डियों को कमजोर न होने दें, नहीं तो दिल हो जाएगा बीमारी का शिकार - शोध में हुआ खुलासाSeptember 30, 2020
कोरोना महामारी में आयुष मंत्रालय की भूमिका बढ़ीSeptember 30, 2020
भारत में मातृ, नवजात और बाल स्वास्थ्य में है अद्भूत सुधार - डॉ. हर्षवर्धन, स्वास्थ्य मंत्रीSeptember 30, 2020
अच्छी ख़बर देश में कोरोना से रिकवर होने वाले मरीजों की संख्या में हो रहा है तेजी से इजाफाSeptember 30, 2020
जाने उड़द दाल के अधिक सेवन से होने वाले नुकसान September 30, 2020
इम्युनिटी बूस्ट करने के लिये खूब खाएं ड्रैगन फ्रूट्सSeptember 30, 2020
क्या कोविड-19 के लिये आयुर्वेदिक इलाज हैं बेहतर, क्या कहती रिसर्च September 30, 2020
जाने आंखों के नीचे क्यूं होती है पिगमेंटेशन, ऐसे पाये छुटकाराSeptember 30, 2020
हार्ट अटैक से बचने के लिए अचूक घरेलू नुस्खाSeptember 29, 2020
अधिक मात्रा में नींबू के सेवन से हो सकता है सेहत को नुकसानSeptember 29, 2020
स्वास्थ्य मंत्री ने जारी किए कोरोना काल में सरकारी कार्यस्थल पर कामकाज के दिशा-निर्देश September 29, 2020
2 अक्टूबर 2020 को पुणे की राष्ट्रीय नेचुरोपैथी संस्थान आयोजित करेगा नेचुरोपैथी पर वेबिनार्स श्रृंखला का आयोजनSeptember 29, 2020
हार्ट की बीमारी से बचना चाहते हैं तो करें ये योगासनSeptember 29, 2020
पूरे अमेरिका में 15 करोड़ रैपिड कोविड-19 टेस्ट किट का किया जाएगा वितरणSeptember 29, 2020