कोरोना की जांच अब होगी और भी आसान, भारतीय वैज्ञानिकों ने विकसित की नई जांच पद्धति

▴ कोरोना की जांच अब होगी और भी आसान, भारतीय वैज्ञानिकों ने विकसित की नई जांच पद्धति

इस नई टेस्ट पद्धति से समान संसाधनों और बिना किसी अतिरिक्त लागत के नमूनों का परीक्षण किया जा सकता है और आसानी से कम से कम 2-3 गुना तक परीक्षणों को बढ़ाया जा सकता है।


सार्स-कोव-2 का पता लगाने के लिए हैदराबाद स्थित सीएसआईआर की घटक प्रयोगशाला सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी (सीसीएमबी) द्वारा विकसित ड्राई स्वैब-डायरेक्ट आरटी-पीसीआर की सरल और तेज़ विधि को अब आईसीएमआर द्वारा उनकी स्वतंत्र मान्यता के आधार पर मंजूरी दे दी गई है। सीएसआईआर-सीसीएमबी द्वारा विकसित यह विधि मौजूदा स्वर्ण मानक आरटी-पीसीआर विधि का एक सरल रूपांतरण है और बिना किसी संसाधनों के नए निवेश के साथ परीक्षण को आसानी से 2 से 3 गुना तक बढ़ा सकती है। इस पद्धति का मूल्यांकन करने और 96.9% की समग्र सहमति पाने और इसकी कम लागत और समय के साथ तेजी से परिणाम दिखाने की क्षमता पर विचार करने के बाद, आईसीएमआर ने अब सीएसआईआर-सीसीएमबी ड्राई स्वाब विधि के उपयोग के लिए एक परामर्श जारी किया है।

सीएसआईआर-सीसीएमबी, हैदराबाद अप्रैल 2020 से कोरोनावायरस के नमूनों का परीक्षण कर रहा है। तेलंगाना के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर काम करने के बाद, इसने कुछ प्रमुख मुद्दों की पहचान की जो परीक्षण प्रक्रिया को धीमा कर देतें है। उन मुद्दों को दूर करने के लिए,यहां के शोधकर्ताओं ने कोविड-19 वायरस के लिए ड्राई स्वाब आरएनए-निष्कर्षण नि:शुल्क परीक्षण विधि विकसित की।

खास बात यह है कि ड्राई स्वाब-डायरेक्ट आरटी-पीसीआर विधि में खुष्‍क अवस्था में नाक-श्वास को इकट्ठा करना और प्रेषित करना शामिल है। दूसरे, नमूने से आरएनए अलगाव के चरण को छोड़ दिया गया है और इसमें आईसीएमआर द्वारा अनुशंसित किट का उपयोग करके सीधे आरटी-पीसीआर की प्रक्रिया के बाद नमूने का केवल सरल प्रसंस्करण शामिल है। आरएनए अलगाव के कदम को छोड़ने से पारंपरिक पद्धति पर भारी लाभ मिलता है, क्योंकि समय, लागत और प्रशिक्षित जनशक्ति के संदर्भ में आरएनए अलगाव एक बड़ी अड़चन है। इसे देखते हुए, समान संसाधनों और बिना किसी अतिरिक्त लागत के नमूनों का परीक्षण किया जा सकता है और आसानी से कम से कम 2-3 गुना तक परीक्षणों को बढ़ाया जा सकता है।

डीजी-सीएसआईआर, डॉ.शेखर सी मांडे ने इस आविष्कार पर टिप्पणी करते हुए कहा कि ड्राई-स्वाब डायरेक्ट आरटी-पीसीआर विधि लागत की दृष्टि से किफायती है, जिसे नई किट की आवश्यकता के बिना लागू करना आसान है,  और मौजूदा कार्मिक बिना किसी अतिरिक्त प्रशिक्षण के इस परीक्षण को कर सकते हैं। अत: यह देश में परीक्षण क्षमता को तेजी से बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान दे सकती है।

डॉ. राकेश मिश्रा, निदेशक, सीसीएमबी का कहना है, “ऑटोमेशन के साथ भी आरएनए निष्कर्षण में लगभग 500 नमूनों में 4 घंटे लगते हैं। वीटीएम और आरएनए निष्कर्षण दोनों कोरोनोवायरस के लिए बड़े पैमाने पर परीक्षण के लिए आवश्यक धन और समय के मामले में महत्वपूर्ण बोझ डालते हैं। हमारा मानना है कि तकनीक की योग्यता सभी प्रकार की सेटिंग्स के लिए है और इसमें परीक्षण की लागत और समय में 40-50% तक कमी लाने की क्षमता है।

गौरतलब है कि सीएसआईआर-सीसीएमबी की संशोधित पद्धति भी कई प्रमुख संस्थानों और अस्पतालों द्वारा स्वतंत्र रूप से अनुमोदित की गई है जैसे सेंटर फॉर डीएनए फ़िंगरप्रिंटिंग एंड डायग्नॉस्टिक्स (सीडीएफडी), आईआईएसईआर - बरहामपुर, सीएसआईआर-नीरी, जीएमसीएच-नागपुर, जेनपेथ पुणे, आईजीजीएमएसएच और एमएएफएसयू, नागपुर में स्थित है और अपोलो अस्पताल, हैदराबाद भी इसमें शामिल हैं। इसके अलावा, इस संशोधित विधि कोसीएसआईआर-सीसीएमबी द्वारा समीक्षित प्रत्रिका और अन्य वैज्ञानिक समूहों द्वारा दुनिया भर में कई प्रतिष्ठित वैज्ञानिक पत्रिकाओं में प्रकाशित किया गया है।

Tags : #newresearch #corona #covid19 #covid19test

About the Author


Ranjeet Kumar

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल से पत्रकारिता में मास्टर डिग्री. न्यूज़ चैनल, प्रोडक्शन हाउस, एडवरटाइजिंग एजेंसी, प्रिंट मैगज़ीन और वेब साइट्स में विभिन्न भूमिकाओं यथा - हेल्थ जर्नलिज्म, फीचर रिपोर्टिंग, प्रोडक्शन और डायरेक्शन में 10 साल से ज्यादा काम करने का अनुभव.
नोट- अगर आपके पास भी कोई हेल्थ से संबंधित ख़बर या स्टोरी है, तो आप हमें मेल कर सकते हैं - [email protected] हम आपकी स्टोरी या ख़बर को https://hindi.medicircle.in पर प्रकाशित करेंगे

Related Stories

Loading Please wait...
-Advertisements-




Trending Now

क्या कोरोना वायरस से दिमाग कमज़ोर होने का है खतरा?January 22, 2021
वैक्सीन लेने के बाद भी इजरायल के 12 हजार लोग हुए कोरोना वायरस से संक्रमितJanuary 22, 2021
जवानी में हो रहे है बाल सफेद, तो इस्तेमाल करे करी पत्‍ते, बालों का झड़ना भी हो जाएगा बंदJanuary 22, 2021
जाने क्‍या होता है स्‍टेमिना, इसे कैसे बढ़ा सकते हैं?January 22, 2021
क्या सर्दियों में रोजाना नहाने से हो सकती है गंभीर नुकसानJanuary 22, 2021
जाने दुबले-पतले शरीर को कैसे तंदुरुस्त बना देंगी यह ट्रिक्सJanuary 22, 2021
देश में कोरोना संक्रमण के मामले हुए कम, एक दिन में आए 15 हज़ार मामले, 151 लोगों की हुई मौत January 21, 2021
भारत में चल रहा है कैंसर के नए वैकल्पिक इलाज पर शोध ,ट्रांसजेनिक जेब्राफिश का किया जा रहा है प्रयोगJanuary 21, 2021
देश में जारी है कोरोना वैक्सीनेशन का काम, सरकार का दावा- भारत में सबसे कम आए हैं साइड इफेक्ट्स के मामले January 21, 2021
पंजाब में भी पहुंचा बर्ड फ्लू, कई पक्षियों की हुई मौत, संक्रमण का ख़तरा बढ़ा January 21, 2021
वैक्सीन के प्रति भरोसा जगाने के लिए दूसरे चरण में प्रधानमंत्री लगवाएंगे टीका, राज्यों के मुख्यमंत्री भी देंगे साथ January 21, 2021
दिल की बीमारियों का खतरा बन सकता है “डीप फ्राइड फूड”January 21, 2021
जाने ड्रैगन फ्रूट के ख़ास गुण, बच्चो में दूर होती है एनीमिया की कमीJanuary 21, 2021
जाने किडनी स्‍टोन या गुर्दे की पथरी से जुड़ी ख़ास जानकारीJanuary 21, 2021
विटामिन सी और ई के सेवन से ठीक हो सकता है शरीर का कम्‍पन्न, जाने क्या कहती है रिसर्च January 21, 2021
सीरम इंस्टीट्यूट ने कहा - एलर्जी की कोई आशंका है तो बेहतर है कि कोरोना का टीका न लें January 20, 2021
महाराष्ट्र के कई जिलों में बर्ड फ्लू की हुई पुष्टी, सरकार हुई सतर्क महाराष्ट्र में परभणी जिले के और केंद्रीय कुक्कुट विकJanuary 20, 2021
6 महीने बाद पहली बार, देश में कोरोना संक्रमण का इलाज करा रहे लोगों की संख्या 2 लाख के नीचे January 20, 2021
जाने भाग्यश्री कैसे करती है फेस की केयर, जिद्दी काले धब्बों, पिगमेंटेशन को दूर कर सकता है ये देसी नुस्खाJanuary 20, 2021
जाने क्या है मेनोपॉज़, इसके लक्षण, और हेल्दी रहने के लिए फॉलो करें ये हेल्थ टिप्सJanuary 20, 2021