कोरोना संक्रमण से ठीक हुए मरीजों के लिए जारी किया गया नया प्रोटोकॉल

▴ government-issue-new-protocol-on-corona-recovered-patient

कोरोना वायरस महामारी से पूरी दुनिया परेशान है। जो मरीज इस महामारी को मात दे चुके हैं। उनमें भी कुछ लक्षण दिखाई दे रहे हैं। इसी को देखते हुए भारत सरकार ने कुछ ने दिशा-निर्देश जारी किए हैं।


भारत सरकार राज्य / केंद्रशासित प्रदेश सरकारों के साथ निकट समन्वय और सहयोग से देश में कोविड-19 को लेकर उचित प्रतिक्रिया और उपचार प्रबंधन का नेतृत्व कर रही है। कोविड-19 से बचाव, उसकी रोकथाम और उपचार प्रबंधन के लिए कई रणनीतिक और सुविचारित उपाय किए गए हैं।

यह पाया गया है कि गंभीर कोविड​-19 बीमारी के बाद भी ठीक हो चुके मरीजों में थकान, शरीर में दर्द, खांसी, गले में खराश, सांस लेने में कठिनाई सहित विभिन्न प्रकार के संकेत और लक्षण दिख सकते हैं। कोविड बीमारी के अधिक गंभीर रूप से पीड़ित और पहले से ही बीमारी चल रहे लोगों के ठीक होने की अवधि के लंबा होने की संभावना है।

कोविड के बाद ठीक होने वाले सभी रोगियों की आगे की जांच और उनकी सेहत की देखभाल के लिए एक समग्र दृष्टिकोण की आवश्यकता है। इस बात का ख्याल रखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक पोस्ट कोविड उपचार प्रबंधन प्रोटोकॉल जारी किया है। यह उन रोगियों के उपचार प्रबंधन के लिए एक एकीकृत समग्र दृष्टिकोण प्रदान करता है जो कोविड बीमारी से ठीक हो चुके हैं और उन्हें घर पर देखभाल की जरूरत है।

प्रोटोकॉल का उपयोग निवारक / उपचारात्मक चिकित्सा के रूप में करने के लिए नहीं है।

व्यक्तिगत स्तर पर कोविड के लिए निर्दिष्ट उपयुक्त व्यवहार (चेहरे पर मास्क लगाना, हाथ और श्वसन स्वच्छता, एक-दूसरे से दूरी बनाए रखना) जारी रखें। पर्याप्त मात्रा में गर्म पानी पियें (यदि कोई विपरीत लक्षण न दिखे)। आयुष के योग्य चिकित्सक द्वारा बताई गई रोग प्रतिरोधी क्षमता बढ़ाने वाली आयुष दवाइयां लें। यदि स्वास्थ्य ठीक है तो नियमित रूप से घरेलू काम करें, पेशेवर काम को श्रेणीबद्ध तरीके से फिर से शुरू किया जाना चाहिए। हल्का / मध्यम व्यायाम। योगासन, प्राणायाम और ध्यान का दैनिक अभ्यास करें। चिकित्सक द्वारा बताए गए श्वसन संबंधी व्यायाम करें। हर रोज सुबह या शाम को सहने भर आरामदायक गति से चलते हुए टहलें। संतुलित पौष्टिक आहार, ताजे पके हुए नरम आहार लें जो आसानी से पच जाए। पर्याप्त नींद लें और आराम करें। धूम्रपान और शराब के सेवन से बचें। कोविड और सह-रुग्णता ​​के लिए डॉक्टर के सलाह के अनुसार नियमित दवाएं लें, डॉक्टर को खाई जा रही सभी दवाओं (एलोपैथिक / आयुष) के बारे में सूचित करें। घर पर स्व-स्वास्थ्य निगरानी - तापमान,रक्तचाप,रक्त शर्करा (विशेष रूप से,यदि मधुमेह से पीड़ित हों),नाड़ी ऑक्सीमेट्री आदि (यदि चिकित्सकीय सलाह दी गई हो)। यदि लगातार सूखी खांसी / गले में खराश है तो नमक मिले गर्म पानी से गरारा करें और भाप की सांस लें। गरारा या भाप से सांस लेने में जड़ी बूटियों / मसालों को शामिल किया जा सकता है। खांसी की दवाइयां मेडिकल डॉक्टर या आयुष के योग्य चिकित्सक की सलाह पर लेनी चाहिए। तेज बुखार,सांस की तकलीफ, एसपीओ2 <95%, सीने में असहनीय दर्द, भ्रम की नई शुरुआत, आंखों की कमजोरी जैसी शुरुआती चेतावनी संकेतों पर नज़र रखें।

 

समुदाय के स्तर पर कोविड बीमारी से ठीक होने वाले लोगों को इसके बारे में आम लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए सोशल मीडिया के जरिए अपने दोस्तों, रिश्तेदारों, समुदाय के प्रभावी लोगों, मत निर्माताओं, धार्मिक नेताओं को अपने सकारात्मक अनुभव साझा करने चाहिए ताकि इससे जुड़े मिथकों और कलंक को दूर किया जा सके। बीमारी से ठीक होने और पुनर्वास प्रक्रिया (चिकित्सा, सामाजिक, व्यावसायिक, आजीविका) के लिए समुदाय आधारित स्व-सहायता समूहों, नागरिक समाज संगठनों और योग्य पेशेवरों की सहायता लें। सहकर्मियों, सामुदायिक स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं, परामर्शदाताओं से मनो-सामाजिक सहायता लें। यदि आवश्यक हो तो मानसिक स्वास्थ्य सहायता सेवा लें। एक दूसरे से दूरी बनाए रखने जैसी सभी सावधानी बरतते हुए योग,ध्यान आदि के समूह सत्रों में भाग लें। स्वास्थ्य सुविधा केंद्रों में पहली आगे की जांच (फॉलो-अप) (शारीरिक / टेलीफ़ोनिक) अस्पताल से छुट्टी मिलने के 7 दिनों के भीतर उसी अस्पताल से कराएं जहां इलाज हुआ हो। पहले फॉलो-अप के बाद का उपचार / आगे की जांच निकटतम योग्य एलोपैथिक / आयुष चिकित्सक / चिकित्सा प्रणाली की अन्य चिकित्सा केंद्र में हो सकती हैं। कई तरह की चिकित्सा पद्धति वाली दवाइयां एक साथ लेने से बचना चाहिए, क्योंकि इससे शरीर पर गंभीर प्रतिकूल घटना (एसएई)या प्रतिकूल प्रभाव (एई) हो सकता है। जिन रोगियों का घर में पृथकवास पर उपचार किया गया यदि उन्हें कोई लक्षण लगातार दिखते हों तो वे निकटतम स्वास्थ्य सुविधा केंद्र जा सकते हैं। गंभीर देखभाल सहायता की आवश्यकता वाले गंभीर मामलों में और अधिक सतर्कता के साथ फॉलो अप की जरूरत होगी।
Tags : #corona #coronavirus #covid19 #covid #covidpatient #newprotocol

About the Author


Ranjeet Kumar

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल से पत्रकारिता में मास्टर डिग्री. न्यूज़ चैनल, प्रोडक्शन हाउस, एडवरटाइजिंग एजेंसी, प्रिंट मैगज़ीन और वेब साइट्स में विभिन्न भूमिकाओं यथा - हेल्थ जर्नलिज्म, फीचर रिपोर्टिंग, प्रोडक्शन और डायरेक्शन में 10 साल से ज्यादा काम करने का अनुभव.
नोट- अगर आपके पास भी कोई हेल्थ से संबंधित ख़बर या स्टोरी है, तो आप हमें मेल कर सकते हैं - [email protected] हम आपकी स्टोरी या ख़बर को https://hindi.medicircle.in पर प्रकाशित करेंगे

Related Stories

Loading Please wait...
-Advertisements-



Trending Now

डॉक्टर नितिन पटकी से जानें पोस्ट कोविड के बाद कैसे रखें अपने दिल का ख्यालSeptember 30, 2020
एमबीबीएस कोर्स में सीटों का आवंटन मौजूदा नीतियों के अनुसार होगा - JIPMERSeptember 30, 2020
महाराष्ट्र में निजी अस्पताल और डायग्नोस्टिक सेंटर मरीजों से वसूल रहे हैं मनमाना फीसSeptember 30, 2020
कोरोना संकट की वजह से महाराष्ट्र में इस बार नहीं होगा डांडिया और गरबा के कार्यक्रमSeptember 30, 2020
नेचुरोपैथी पर 2 अक्टूबर से आयोजित होने जा रहा है वेबिनार, महात्मा गांधी के स्वास्थ्य संबंधी विचारों पर होगी चर्चाSeptember 30, 2020
बस सुबह-शाम करें 20-25 मिनट सैर, रहेंगे ताउम्र फिट एंड फाइनSeptember 30, 2020
हड्डियों को कमजोर न होने दें, नहीं तो दिल हो जाएगा बीमारी का शिकार - शोध में हुआ खुलासाSeptember 30, 2020
कोरोना महामारी में आयुष मंत्रालय की भूमिका बढ़ीSeptember 30, 2020
भारत में मातृ, नवजात और बाल स्वास्थ्य में है अद्भूत सुधार - डॉ. हर्षवर्धन, स्वास्थ्य मंत्रीSeptember 30, 2020
अच्छी ख़बर देश में कोरोना से रिकवर होने वाले मरीजों की संख्या में हो रहा है तेजी से इजाफाSeptember 30, 2020
जाने उड़द दाल के अधिक सेवन से होने वाले नुकसान September 30, 2020
इम्युनिटी बूस्ट करने के लिये खूब खाएं ड्रैगन फ्रूट्सSeptember 30, 2020
क्या कोविड-19 के लिये आयुर्वेदिक इलाज हैं बेहतर, क्या कहती रिसर्च September 30, 2020
जाने आंखों के नीचे क्यूं होती है पिगमेंटेशन, ऐसे पाये छुटकाराSeptember 30, 2020
हार्ट अटैक से बचने के लिए अचूक घरेलू नुस्खाSeptember 29, 2020
अधिक मात्रा में नींबू के सेवन से हो सकता है सेहत को नुकसानSeptember 29, 2020
स्वास्थ्य मंत्री ने जारी किए कोरोना काल में सरकारी कार्यस्थल पर कामकाज के दिशा-निर्देश September 29, 2020
2 अक्टूबर 2020 को पुणे की राष्ट्रीय नेचुरोपैथी संस्थान आयोजित करेगा नेचुरोपैथी पर वेबिनार्स श्रृंखला का आयोजनSeptember 29, 2020
हार्ट की बीमारी से बचना चाहते हैं तो करें ये योगासनSeptember 29, 2020
पूरे अमेरिका में 15 करोड़ रैपिड कोविड-19 टेस्ट किट का किया जाएगा वितरणSeptember 29, 2020