भारतीय वैज्ञानिकों ने तैयार किया स्वदेशी उपकरण, दिल के छेद का ऑपरेशन करने में अब होगी और आसानी

▴ भारतीय वैज्ञानिकों ने तैयार किया स्वदेशी उपकरण, दिल के छेद का ऑपरेशन करने में अब होगी और आसानी

एससीटीआईएमएसटी द्वारा विकसित नया एएसडी अक्लूड दिल के छेद के बेहतर इलाज को बढ़ावा देता है और आस-पास के ऊतकों को कम से कम नुकसान पहुंचाता है।


भारतीयों को जल्द ही रक्त प्रवाह में बदलाव करके मस्तिष्क में धमनियों के सूजन को सीमित करने वाले पहले स्वदेशी फ्लो डायवर्टर स्टेंट और दिल के छेद के बेहतर इलाज को बढ़ावा देने वाला एक उपकरण सुलभ होंगे।

देश में पैदा होने वाले प्रत्येक 1000 जीवित बच्चों में से 8 बच्चों को प्रभावित करने वाले आट्रीयल सेप्टल दोष (एएसडी) या दिल के छेद को ठीक करने में इस्तेमाल होने वाले नीतिनोल-आधारित अक्लूडर डिवाइस की मांग को पूरा करने के लिए वर्तमान में इसका आयात किया जाता है।

इसके अलावा, भारत फ्लो डायवर्टर स्टेंट का निर्माण नहीं करता है। यह स्टेंट मस्तिष्क में धमनियों के इंट्रकेनीअल एन्यूरिज्म या धमनियों की सूजन को सीमित करने के लिए रक्त प्रवाह को बदलने  में काम आता है और इस सूजन के फटने या इससे जुड़ेआघात की संभावना को कम करने में मदद करता है।

इन चुनौती से निपटने के लिए, भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के स्वायत्त संस्थान श्री चित्रा तिरुनल इंस्टीट्यूट फॉर मेडिकल साइंसेज एंड प्रौद्योगिकी (एससीटीआईएमएसटी) ने टेक्नीकल रिसर्च सेंटर (टीआरसी) के तहत, दो बायोमेडिकल प्रत्यारोपण उपकरणों- एक आट्रीयल सेप्टल डिफेक्ट अक्लूडर और एक इंट्रकेनीअल फ्लो डायवर्टर स्टेंट- के लिए पुणे स्थित बायोरेड मेडिसिस के साथ प्रौद्योगिकी हस्तांतरण समझौतों पर हस्ताक्षर किए। इस संस्थान ने नेशनल एयरोस्पेस लेबोट्रीज, बेंगलुरु (सीएसआईआर-एनएएल) के साथ मिलकर सुपरलैस्टिक नीतिनोल मिश्रत धातु का उपयोग करके ये दोनों स्टेंट विकसित किए हैं।

इस सप्ताह के शुरू में एक ऑनलाइन बैठक के माध्यम से सीएसआईआर-एनएएल के निदेशक डॉ. जितेंद्र जे जाधव की उपस्थिति में प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण के लिए एससीटीआईएमएसटी के निदेशक डॉ. के जयकुमार और बायोरेड मेडिसिस के प्रबंध निदेशक श्री जितेंद्र हेगड़े ने हस्ताक्षर किए।

एससीटीआईएमएसटी द्वारा विकसित नया एएसडी अक्लूड दिल के छेद के बेहतर इलाज को बढ़ावा देता है और आस-पास के ऊतकों को कम से कम नुकसान पहुंचाता है। यह प्रणाली एक नवीन प्रक्रिया से लैस है जो इलाज के उपकरण के सुगम संचालन को आसान बनाता है। उपकरण को दो भारतीय पेटेंट आवेदनों, एक अंतर्राष्ट्रीय पेटेंट आवेदन और दूसरा डिजाइन पंजीकरण के माध्यम से सुरक्षित किया गया है।

एसटीटीआईएमएसटी द्वारा विकसित एन्यूरिज्म में उपकरण की सटीक स्थिति को संभव बनाने वाला फ्लेक्सिबल फ्लो डायवर्टर स्टेंट भारत में पहली बार निर्मित किया गया है। यह एक नये ब्रेडिंग पैटर्न के माध्यम से किंक प्रतिरोध और बेहतर रेडियल ताकत रखता है जो उपकरण को फ्लेक्सिबल बनाता है और वाहिका सीमाओं की विकृति के अनुकूल रखता है। यह उपकरण रेडियोधर्मी दृश्यता के लिए रेडियो-ओपेक्यू मार्कर की सुविधा भी प्रदान करता है। संबंधित वितरण प्रणाली एन्यूरिज्म से इतर डिवाइस की सटीक स्थिति को संभव बनाती है। इस उपकरण की विशेषताओं को दो भारतीय पेटेंट आवेदनों, एक अंतर्राष्ट्रीय पेटेंट आवेदन और दूसरा डिजाइन पंजीकरण के माध्यम से सुरक्षित किया गया है। चित्रा फ्लो डायवर्टर स्टेंट की कीमत वर्तमान में आयात किए जाने वाले स्टेंटों से कम होने की उम्मीद है।

Tags : #heartdisease #heart #indigenousequipment #medicalequipment #indiansceintists

About the Author


Ranjeet Kumar

Related Stories

Loading Please wait...
-Advertisements-




Trending Now

मध्य प्रदेश में फिर बढ़े कोरोना वायरस के केसेFebruary 25, 2021
जानें क्या है लॉन्ग कोविड? इसके लक्षणFebruary 25, 2021
महाराष्ट्र के 1 स्कूल के 229 बच्चे मिले कोरोना पॉजिटिवFebruary 25, 2021
बच्‍चों को भी जल्द लगेगी कोवैक्‍सीन की डोज, जाने कबFebruary 25, 2021
गर्दन में दर्द होना हो सकता है “माइग्रेन”, ना करे नजरअंदाजFebruary 25, 2021
ये खाद्य पदार्थ आपको समय से पहले कर रहे है बूढ़ा February 24, 2021
ऑर्गेनिक स्किन प्रॉडक्ट्स यूज़ करना स्किन के लिए है बेहतर या नुकसानदेह, इस्तेमाल से पहले ज़रूर जान ले February 24, 2021
दिल्‍ली में कोविशील्‍ड वैक्‍सीन लेने के बाद व्‍यक्ति की मौत, जाने पूरी रिपोर्टFebruary 24, 2021
जाने पित्त की पथरी का घरेलू इलाजFebruary 24, 2021
कपिल शर्मा को जिम में हुई बैक इंजरी, चलना-फिरना हुआ मुश्किलFebruary 24, 2021
इम्यूनिटी बूस्ट करेगा ये 3 योगासन February 24, 2021
मशरूम के सेवन से पुरुषों को मिलेंगे ये चमत्कारिक फायदेFebruary 24, 2021
दिल्ली में बढ़ रही है कोविड-19 संक्रमण की दरFebruary 23, 2021
सांसों से जुड़ी परेशानियों को कम करे इन घरेलु नुस्खो से February 23, 2021
फेस से अनचाहे तिल को हटाने के लिए यूं करें टी ट्री ऑयल का इस्तेमालFebruary 23, 2021
बच्चे की नाक को करे ऐसे साफ़, कुछ आसान टिप्सFebruary 23, 2021
इन 5 लोगों को ब्लड डोनेट नहीं करना चाहिए, जाने किन लोगो को February 23, 2021
जीरे के सेवन से इम्युनिटी होती है बूस्ट February 23, 2021
नींबू का अचार खाने से होता है शुगर लेवल कंट्रोलFebruary 23, 2021
जाने दो बच्चों के बीच होना चाहिए कितना एज गैप?February 22, 2021