हेल्थकेयर बिजनेस लीडर के प्रशांत शेड से जाने देश में कैसा है प्राथमिक स्वास्थ्य सुविधाओं का हाल

▴ हेल्थकेयर बिजनेस लीडर के प्रशांत शेड से जाने देश में कैसा है प्राथमिक स्वास्थ्य सुविधाओं का हाल

देश में प्राथमिक स्वास्थ्य सुविधाओं का क्या हाल है, यह बात किसी से छिपी नहीं है। हेल्थकेयर बिजनेस लीडर के प्रशांत शेड इस दिशा में काम कर रहे हैं. उनकी कोशिश है कि देश में प्राथमिक स्वास्थ्य सुविधा बेहतर हो।


क्या आपको याद है कि जब आप छोटे थे तो आपने कभी हेल्थकेयर यूनिट गए थे। निश्चित रूप से वो आलीशान अस्पताल नहीं होगा। अक्सर हम अपने परिवार के डॉक्टर के पास जाते थे। वो एक  दोस्त, गाइड, दार्शनिक और एक विश्वासपात्र था, जो हमारे स्वास्थ्य पर बात करता था।

हेल्थ केयर बिजनेस लीडर के प्रशांत शेडे के पास 24 साल का एक लंबा अनुभव है। वे अपने काम को बड़े अनुशासनात्मक रूप में करते हैं। वो ग्राहकों के साथ संबंध रखने, प्रशानसन बाजार विश्लेषन, नए बाजारों के विकास और बाजार क्षेत्रों को शामिल करते हुए व्यापार संचालन के प्रबंधन में कुशल हैं। कैसे हमारे फैमली डॉक्टर आहिस्ता-आहिस्ता प्राथमिक स्वास्थ्य की कमी पैदा कर रहे हैं। उन्होंने तत्काल वापस लाने की आवश्यकता है।

प्रशांत कहते हैं, "हमारे परिवार के डॉक्टर परिवार के स्वास्थ्य के मुद्दों के लिए दौरा किया था, जो हमारे पूरे चिकित्सा इतिहास जानता था,  किस चीज से एलर्जी है ये सब वे जानते थे। वे कहते हैं, वह प्राइमरी हेल्थकेयर के संरक्षक थे । लेकिन आज यह संरक्षक कहां है? क्या हम उसे याद नहीं कर रहे हैं, विशेष रूप से इस महामारी के दौरान, जहां हर कोई संक्रमण को रोकने के लिए प्रमुख अस्पतालों से परहेज कर रहे है? वे कहते हैं, हम अक्सर सभी छोटी दिनचर्या बीमारियों के लिए प्रमुख अस्पतालों का दौरा कर रहे हैं। स्वास्थ्य के मुद्दों के बिना प्राथमिक स्तर पर फ़िल्टर हो रही है, जो अनावश्यक रूप से प्रक्रियाओं और हस्तक्षेप जो आसानी से एक विनंर क्लिनिक में प्रबंधित किया जा सकता है। इसके साथ ही माध्यमिक और तृतीयक अस्पतालों बोझ है ।

हेल्थ कल्चर में हुए बदलाव की वजह से हमारे जैसे मामूली पारिवारिक डॉक्टरों के क्लीनिकों की कमी हो गई। और अब यही समय जब हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स और समाज को साथ मिलकर प्राथमिक, माध्यमिक और तृतीयक स्वास्थ्य देखभाल के बीच पैदा हुई खाई को पाटना होगा।

प्रशांत कहते हैं कि एक अच्छी तरह से संतुलित और एकीकृत स्वास्थ्य देखभाल दृष्टिकोण सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज को बढ़ावा देने के लिए समय की मांग है । इस परीक्षण के समय , हमने महसूस किया है कि रोगियों के देखभाल कार्यक्रमों के प्रभावी कामकाज के लिए अस्पताल की देखभाल की बहुत आवश्यकता है। प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली का आधार है लेकिन यह सबसे उपेक्षित क्षेत्र है । प्रशांत कहते हैं, देश में एक पारदर्शी और मजबूत स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली बनाने के लिए एक बड़े निवेश की आवश्यकता है । 

प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल

एक आम आदमी को जब भी किसी तरह की स्वास्थ्य समस्या आती है तो वो प्राथमिक स्वास्थ्य केयर के पास ही जाता है। इसलिए इसका ढ़ाचा मजबूत होना चाहिए। प्राथमिक स्वास्थ्य केयर, स्वास्थ्य और कल्याण के प्रति समाज का अपना दृष्टिकोण है, जो लोगों, परिवारों और समुदायों की ज़रूरतों और वरीयताओं पर केंद्रित है।

पूरे स्वास्थ्य प्रणाली में प्राथमिक स्वास्थ्य केयर पर ध्यान देकर हम 90 फीसदी लोगों और परिवारों की जरूरतों को पूरा किया जा सकता है। इसके लिए हमें अपनी अवधारणा को व्यापक करना होगा। यह व्यक्ति के स्वास्थ्य की धारणा को बदल सकता है, इसे दूर करने के उपाय पूरे जीवन काल के माध्यम से गंभीर बीमारियों के प्रति सजग करता है। प्राथमिक स्वास्थ्य केयर व्यक्तियों को स्वास्थ्य की गारंटी देता है

मानव अधिकारों की सार्वभौमिक घोषणा के अनुच्छेद 25 के मुताबिक  हर किसी को अपना और अपने परिवार के लिए अच्छी ज़िंदगी, अच्छा स्वास्थ्य के साथ-सात भोजन, घर और चिकित्सा देखभाल और आवश्यक सामाजिक सेवा पाने का अधिकार है।

और प्राथमिक स्वास्थ्य केयर, हेल्थ केयर सिस्टम का मुख्य स्तंभ है, जिसकी वजह से मैं सबका धयान आकर्षित करना चाहूंगा।

सरकार की भूमिका

निजी क्लीनिक - पहले से मौजूद सामान्य चिकित्सकों को कर सब्सिडी, आसान वित्तीय सहायता और रियायती उपकरण लागत के रूप में प्रोत्साहन प्रदान किया जाना चाहिए। उन्हें निजी क्लिनिक प्रतिष्ठानों के रूप में अभ्यास जारी रखने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए । पीपीपी मॉडल - शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल केंद्रों का एक मजबूत नेटवर्क बनाने के लिए सार्वजनिक-निजी भागीदारी (पीपीपी) के माध्यम से निजी संस्थाओं को समर्थन देने की आवश्यकता है। स्वास्थ्य में निजी प्रदाताओं के विखंडन को कम करने और अच्छी गुणवत्ता वाली किफायती देखभाल तक पहुंच में सुधार करने का प्रयास किया जाना चाहिए । एक ही छत के नीचे परिवार की सभी जरूरतों को पूरा करने वाले ' हेल्थ स्प्रिंग फैमिली हेल्थ एक्सपर्ट्स ' जैसे पहले से मौजूद मॉडलों को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए । सभी आय समूहों पर ध्यान दें- आयुष्मान भारत जैसी सरकारी योजनाएं प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल का एक घटक है और सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज की दिशा में पहला बड़ा कदम है। हालांकि, अगर मध्यम आय वर्ग के लिए कोई योजना शुरू की जाती है तो यह एक स्वागत योग्य कदम होगा ।

चुनौतियां

जागरूकता – स्वास्थ्य संबंधित जागरूकता होना ज़रूरी है। शिक्षा में कमी, व्यावहारिकता में कमी, औषधीय सेवा में प्रशिक्षण, प्रति आबादी में स्वास्थ्य की आवश्यकता की पूर्ति होनी चाहिए। पहुंच – स्वास्थ्य सुविधाओं की आसानी से पहुंच होनी चाहिए। पांच किलोमीटर के अंदर स्वास्थ्य सुविधाएं होने चाहिए। इस परिभाषा के आधार पर साल 2012 में देश में सर्वे किया गया और पाया गया कि सिर्फ 37 फीसदी ही लोग ही इसके अंतर्गत आते हैं। बाकी 58 फीसदी लोग इस दायरे से बाहर हैं। प्रति आबादी पर स्वास्थ्यकर्मी साल 2011 के एक अध्ययन में अनुमान लगाया गया कि भारत में प्रति 10,000 आबादी पर लगभग 20 स्वास्थ्य कर्मी हैं, जिनमें 31 फीसदी के कर्मियों के साथ एलोपैथिक डॉक्टर हैं, , नर्सें 30%, फार्मासिस्ट 11%, आयुष चिकित्सक 9% और अन्य 9% हैं । सार्वजनिक खर्च में कमी - स्वास्थ्य सेवाओं में बजट का आवंटन बेहद कम है। भारत, हेल्थकेयर पर अपने सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 2% खर्च करता है।

   हमें इन चुनौतियों को पहचानना चाहिए और साथ ही इनसे निपटने की तैयारी भी करनी चाहिए। हमें याद रखना चाहिए कि हमें ख़राब स्वास्थ्य सुविधा से लड़ना है। यह हमारे मानवता के लिए हानिकारक है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Tags : #prashantshedge #healthcarebusiness #pimaryhealthcare #familydoctor #familyphysician #clinics #familyclinic #healthcaredelivery #DrRachanaVishwajeet #epidemiologist #doctorpatientrelations #rendezvous

About the Author


Ranjeet Kumar

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल से पत्रकारिता में मास्टर डिग्री. न्यूज़ चैनल, प्रोडक्शन हाउस, एडवरटाइजिंग एजेंसी, प्रिंट मैगज़ीन और वेब साइट्स में विभिन्न भूमिकाओं यथा - हेल्थ जर्नलिज्म, फीचर रिपोर्टिंग, प्रोडक्शन और डायरेक्शन में 10 साल से ज्यादा काम करने का अनुभव.
नोट- अगर आपके पास भी कोई हेल्थ से संबंधित ख़बर या स्टोरी है, तो आप हमें मेल कर सकते हैं - [email protected] हम आपकी स्टोरी या ख़बर को https://hindi.medicircle.in पर प्रकाशित करेंगे

Related Stories

Loading Please wait...
-Advertisements-




Trending Now

क्या कोरोना वायरस से दिमाग कमज़ोर होने का है खतरा?January 22, 2021
वैक्सीन लेने के बाद भी इजरायल के 12 हजार लोग हुए कोरोना वायरस से संक्रमितJanuary 22, 2021
जवानी में हो रहे है बाल सफेद, तो इस्तेमाल करे करी पत्‍ते, बालों का झड़ना भी हो जाएगा बंदJanuary 22, 2021
जाने क्‍या होता है स्‍टेमिना, इसे कैसे बढ़ा सकते हैं?January 22, 2021
क्या सर्दियों में रोजाना नहाने से हो सकती है गंभीर नुकसानJanuary 22, 2021
जाने दुबले-पतले शरीर को कैसे तंदुरुस्त बना देंगी यह ट्रिक्सJanuary 22, 2021
देश में कोरोना संक्रमण के मामले हुए कम, एक दिन में आए 15 हज़ार मामले, 151 लोगों की हुई मौत January 21, 2021
भारत में चल रहा है कैंसर के नए वैकल्पिक इलाज पर शोध ,ट्रांसजेनिक जेब्राफिश का किया जा रहा है प्रयोगJanuary 21, 2021
देश में जारी है कोरोना वैक्सीनेशन का काम, सरकार का दावा- भारत में सबसे कम आए हैं साइड इफेक्ट्स के मामले January 21, 2021
पंजाब में भी पहुंचा बर्ड फ्लू, कई पक्षियों की हुई मौत, संक्रमण का ख़तरा बढ़ा January 21, 2021
वैक्सीन के प्रति भरोसा जगाने के लिए दूसरे चरण में प्रधानमंत्री लगवाएंगे टीका, राज्यों के मुख्यमंत्री भी देंगे साथ January 21, 2021
दिल की बीमारियों का खतरा बन सकता है “डीप फ्राइड फूड”January 21, 2021
जाने ड्रैगन फ्रूट के ख़ास गुण, बच्चो में दूर होती है एनीमिया की कमीJanuary 21, 2021
जाने किडनी स्‍टोन या गुर्दे की पथरी से जुड़ी ख़ास जानकारीJanuary 21, 2021
विटामिन सी और ई के सेवन से ठीक हो सकता है शरीर का कम्‍पन्न, जाने क्या कहती है रिसर्च January 21, 2021
सीरम इंस्टीट्यूट ने कहा - एलर्जी की कोई आशंका है तो बेहतर है कि कोरोना का टीका न लें January 20, 2021
महाराष्ट्र के कई जिलों में बर्ड फ्लू की हुई पुष्टी, सरकार हुई सतर्क महाराष्ट्र में परभणी जिले के और केंद्रीय कुक्कुट विकJanuary 20, 2021
6 महीने बाद पहली बार, देश में कोरोना संक्रमण का इलाज करा रहे लोगों की संख्या 2 लाख के नीचे January 20, 2021
जाने भाग्यश्री कैसे करती है फेस की केयर, जिद्दी काले धब्बों, पिगमेंटेशन को दूर कर सकता है ये देसी नुस्खाJanuary 20, 2021
जाने क्या है मेनोपॉज़, इसके लक्षण, और हेल्दी रहने के लिए फॉलो करें ये हेल्थ टिप्सJanuary 20, 2021