स्वास्थ्य कर्मियों को संक्रमण से बचायेगा ये 'आधुनिक कनस्तर बैग'

▴ new-canister-bag-to-be-covered-by-infection

वैज्ञानिकों द्वारा बनाया गया यह कनस्तर बैग काफी उपयोगी साबित होगा, उन लोगों के लिए जो संक्रमित रोगियों द्वारा स्रावित संक्रमण को एकत्रित करते हैं।


कोविड-19,तपेदिक (टीबी),और इन्फ्लूएंजा जैसे संक्रामक रोगों से होने वाले संक्रामक स्राव ऐसे मरीजों के उपचार में लगे स्वास्थ्य कर्मियों के लिए उच्च जोखिम के हालात पैदा करते हैं। कचरा बटोरने के दौरान संक्रमण के उच्च जोखिम की स्थिति को कनस्तर बैग के उपयोग से जल्द नियंत्रित किया जा सकता है। यह बैग संक्रामक स्रावों को तेजी से ठोस रूप प्रदान करता है जिससे संक्रामक स्रावों का निपटान सुरक्षित हो जाता है।

संक्रमित श्वसन स्रावों के सुरक्षित निपटान के लिएभारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के तहत स्वायत्त संस्थान श्री चित्रा तिरुनल इंस्टीट्यूट फॉर मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी (एससीटीआईएमएसटी)के शोधकर्ता अस्पतालों में आईसीयू रोगियों या वार्डों में इलाज करा रहे अधिक श्वसन स्राव वाले लोगों के श्वसन स्रावों के सुरक्षित निपटान के लिए एक विशेषउपाय के साथ सामने आए हैं। उन्होंने एक कनस्तर बैग विकसित किया है जो प्रभावी कीटाणुनाशक युक्त सुपर-शोषक सामग्री से बना है और इस बैग का नाम "एक्रिलोसॉर्ब" है।

जब रोगी को अस्पताल में भर्ती कराया जाता है, तो स्रावों को वैक्यूम लाइन का उपयोग करके बोतलों या कनस्तरों में डाला जाता है और इसे कीटाणुरहित करने की प्रक्रिया के बाद अपशिष्ट द्रव निपटान प्रणाली के माध्यम से छोड़ दिया जाता है। इसके निपटान के दौरान संक्रमण का उच्च जोखिम होता है,और इसके निपटान के लिए कीटाणुशोधन सुविधाओं के साथ अच्छी तरह से सुसज्जित स्लुइस कमरे की जरूरत होती है। महामारी के दौरान स्थापित कम सुविधाओं वाले अस्पतालों या अस्थायी अलगाव वार्डों में सुरक्षा के खतरे और आवश्यक कर्मियों के मुद्दे कई गुना अधिक होंगे।

नस्तर बैग 500 मिलीलीटर संक्रामक स्राव को अवशोषित कर सकते हैं और इसे तुरंत ठोस रूप प्रदान कर सकते हैं। इसके अलावा,कीटाणुनाशक की उपस्थिति के कारण बहुत जल्द पूरी प्रणाली को कीटाणु रहित कर दिया जाएगा। लाइनर संरचना में एक पेटेंट डिज़ाइन है जो प्रगतिशील शोषक उपलब्धता को ऊपर की ओर ले जाने की अनुमति देता है। इन थैलियों के अंदर जमाने वाले (ठोसीकरण) और तत्काल कीटाणुशोधन के तत्व हैं, जो स्रावों के रिसाव को रोककर और एरोसोल के गठन से द्वितीयक संक्रमणों के जोखिम को समाप्त कर देता है। इससे स्वास्थ्य कर्मियों का संक्रमण से बचाव होता है और इस तरह सुरक्षित कार्यस्थल प्रबंधन को बढ़ावा मिलता है।कनस्तर बैग एक अनुकूलन योग्य सीलर बैग में बंद होते हैं जो रिसाव मुक्त कीटाणुशोधक जैव चिकित्सा अपशिष्ट निपटान के रूप में पैक किए जा सकते हैं। इस कनस्तर बैग का परीक्षण अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार किया गया है।

इस तकनीक को साकार रूप देने वाली एससीटीआईएमएसटी की टीम में डॉ. मंजू, डॉ. मनोज कोमथ, डॉ. आशा किशोर, डॉ. अजय प्रसाद ऋषि जैसे जैव सामग्री वैज्ञानिक और चिकित्सक शामिल हैं। एक्रिलोसॉर्ब सक्शन कनस्तर लाइनर (सीएल सीरीज) बैग की जानकारी रॉमसन्स साइंटिफिक एंड सर्जिकल प्राइवेट लिमिटेड को इसके विनिर्माण और तत्काल विपणन के लिए हस्तांतरित कर दिया गया है। प्रत्येक कनस्तर लाइनर बैग की कीमत लगभग100/- रुपये होगी।

रॉमसन्स साइंटिफिक एंड सर्जिकल प्राइवेट लिमिटेड कंपनी उत्तर प्रदेश में स्थित है जो बाजार में 200 से अधिक उत्पादों के साथ चिकित्सा उपकरण विनिर्माण क्षेत्र में बड़ी कंपनी है। इस कंपनी के पास डिस्पोजेबल मेडिकल और सर्जिकल उपकरणों के क्षेत्र में विनिर्माण का50 साल से अधिक की विशेषज्ञता है और मेडिकल उपकरण क्षेत्र में यह एक प्रमुख ब्रांड है। इस कंपनी के उत्पादों का दुनिया के 65 देशों में वितरण होता है। गुणवत्ता इस कंपनी का प्रमुख आदर्श शब्द है,जो इसके कई उत्पादों के लिए मिले आईएसओ और सीई प्रमाणपत्रों से स्पष्ट है।

इन-हाउस डिज़ाइन किए गए इस सक्शनकनस्तर लाइनर बैग का क्षेत्र परीक्षण एससीटीआईएमएसटी में किया जा रहा है।

Tags : #Infection #CanisterBag #Doctors #CoronaVirus

About the Author


Ranjeet Kumar

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल से पत्रकारिता में मास्टर डिग्री. न्यूज़ चैनल, प्रोडक्शन हाउस, एडवरटाइजिंग एजेंसी, प्रिंट मैगज़ीन और वेब साइट्स में विभिन्न भूमिकाओं यथा - हेल्थ जर्नलिज्म, फीचर रिपोर्टिंग, प्रोडक्शन और डायरेक्शन में 10 साल से ज्यादा काम करने का अनुभव.
नोट- अगर आपके पास भी कोई हेल्थ से संबंधित ख़बर या स्टोरी है, तो आप हमें मेल कर सकते हैं - [email protected] हम आपकी स्टोरी या ख़बर को https://hindi.medicircle.in पर प्रकाशित करेंगे

Related Stories

Loading Please wait...
-Advertisements-



Trending Now

डॉक्टर नितिन पटकी से जानें पोस्ट कोविड के बाद कैसे रखें अपने दिल का ख्यालSeptember 30, 2020
एमबीबीएस कोर्स में सीटों का आवंटन मौजूदा नीतियों के अनुसार होगा - JIPMERSeptember 30, 2020
महाराष्ट्र में निजी अस्पताल और डायग्नोस्टिक सेंटर मरीजों से वसूल रहे हैं मनमाना फीसSeptember 30, 2020
कोरोना संकट की वजह से महाराष्ट्र में इस बार नहीं होगा डांडिया और गरबा के कार्यक्रमSeptember 30, 2020
नेचुरोपैथी पर 2 अक्टूबर से आयोजित होने जा रहा है वेबिनार, महात्मा गांधी के स्वास्थ्य संबंधी विचारों पर होगी चर्चाSeptember 30, 2020
बस सुबह-शाम करें 20-25 मिनट सैर, रहेंगे ताउम्र फिट एंड फाइनSeptember 30, 2020
हड्डियों को कमजोर न होने दें, नहीं तो दिल हो जाएगा बीमारी का शिकार - शोध में हुआ खुलासाSeptember 30, 2020
कोरोना महामारी में आयुष मंत्रालय की भूमिका बढ़ीSeptember 30, 2020
भारत में मातृ, नवजात और बाल स्वास्थ्य में है अद्भूत सुधार - डॉ. हर्षवर्धन, स्वास्थ्य मंत्रीSeptember 30, 2020
अच्छी ख़बर देश में कोरोना से रिकवर होने वाले मरीजों की संख्या में हो रहा है तेजी से इजाफाSeptember 30, 2020
जाने उड़द दाल के अधिक सेवन से होने वाले नुकसान September 30, 2020
इम्युनिटी बूस्ट करने के लिये खूब खाएं ड्रैगन फ्रूट्सSeptember 30, 2020
क्या कोविड-19 के लिये आयुर्वेदिक इलाज हैं बेहतर, क्या कहती रिसर्च September 30, 2020
जाने आंखों के नीचे क्यूं होती है पिगमेंटेशन, ऐसे पाये छुटकाराSeptember 30, 2020
हार्ट अटैक से बचने के लिए अचूक घरेलू नुस्खाSeptember 29, 2020
अधिक मात्रा में नींबू के सेवन से हो सकता है सेहत को नुकसानSeptember 29, 2020
स्वास्थ्य मंत्री ने जारी किए कोरोना काल में सरकारी कार्यस्थल पर कामकाज के दिशा-निर्देश September 29, 2020
2 अक्टूबर 2020 को पुणे की राष्ट्रीय नेचुरोपैथी संस्थान आयोजित करेगा नेचुरोपैथी पर वेबिनार्स श्रृंखला का आयोजनSeptember 29, 2020
हार्ट की बीमारी से बचना चाहते हैं तो करें ये योगासनSeptember 29, 2020
पूरे अमेरिका में 15 करोड़ रैपिड कोविड-19 टेस्ट किट का किया जाएगा वितरणSeptember 29, 2020