मधुमेह रोगियों के देर से घाव भरने की समस्या से मिल सकता है आराम - शोध में दावा

▴ मधुमेह रोगियों के देर से घाव भरने की समस्या से मिल सकता है आराम - शोध में दावा

डायबिटिक के कारण होने वाले घाव की बार-बार ड्रेसिंग करने से उपचार प्रक्रिया पर बुरा प्रभाव पड़ता है जबकि इलाज की अड़चनों के कारण आंतरिक चोट को ठीक करने के बारे में मूल्यांकन करना कठिन है।


स्पिरुलिना से प्राप्त इंजेक्टेबल हाइड्रोजेल से आंतरिक चोट और मधुमेह रोगियों की स्थिति में तेजी से सुधार में मदद मिल सकती है।

डायबिटिक के कारण होने वाले घाव की बार-बार ड्रेसिंग करने से उपचार प्रक्रिया पर बुरा प्रभाव पड़ता है जबकि इलाज की अड़चनों के कारण आंतरिक चोट को ठीक करने के बारे में मूल्यांकन करना कठिन है।

इस समस्या के समाधान के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के स्वायत्त संस्थान इंस्टीट्यूट ऑफ नैनो साइंस एंड टेक्नोलॉजी (आईएनएसटी) मोहाली ने हाल में कप्पा कैरेजिनन से प्राप्त इंजेक्टेबल हाइड्रोजेल विकसित की है। यह हाइड्रोजेल एक प्रकार का घुलनशील कार्बोहाइड्रेट है जो खाने योग्य लाल समुद्री शैवाल में पाया जाता है। स्पिरुलिना में तैलीय सी-फाइकोसाइनिन नामक प्रोटीन पाया जाता है।

शोधकर्ताओं द्वारा के-कैरेजिनन के जेल गुणों का उपयोग सी-फाइकोसाइनिन के साथ शरीर में डालने योग्य तथा पुनरुत्पादक घाव ड्रेसिंग मैट्रिक्स के रूप में किया गया ताकि चोट में त्वरित सुधार हो और रियल टाइम में इसकी प्रगति की निगरानी की जा सके। विकसित मैट्रिक्स काफी जैव अनुकूल है। ‘एक्टा बायोमैटिरिएलिया’ नामक पत्रिका में प्रकाशित इस शोध से साबित हुआ है कि गंभीर घाव की स्थिति में इस मिश्रण की रक्त प्रवाह अवरोधक क्षमता अधिक होती है।

हाइड्रोजेल मैट्रिक्स डॉ. सुरजीत कर्मकार और उनके समूह द्वारा विकसित की गई है। इस समूह को विवो नियर इन्फ्रारेड (एनआईआर) में अनुमति दी गई। इस तरह घाव में सुधार की निगरानी घाव पर भरे गए हाडड्रोजेल के समय-समय पर लिए गए 3डी इमेज से की जा सकती है। घाव की गहराई में परिवर्तन घाव में प्रतिशत के हिसाब से सुधार देखने की अनुमति देता है। इस तरह की इमेजिंग आंतरिक चोट और मधुमेह रोगियों के घाव की रियल टाइम निगरानी की अनुमति देती है। ज्वलनशीलता रोधी क्रिया और के-कैरेजिनन-सी-फाइकोसिनिन (के-सीआरजी-सी-पीसी) की तेज रक्त क्लोटिंग क्षमता इसे तेज रक्त क्लोटिंग, ज्वलनशीलता रोधी मामलों में इसका उपयोग और तेजी से घाव ठीक होने की उचित निगरानी में मददगार साबित होता है।

हाइड्रोजेल के-कैरेजिनन मोमोमर्स (बी-डी-गैलेक्टोस तथा 3,6 –एनहाइड्रो-ए-डी-ग्लैक्टोस को α-(1,3) तथा β-(1,4) ग्लैकोसिडिक संयोजन को सी-फाइकोसिनिन से जोड़कर संकर बनाया गया। इससे सुराखदार सामग्री और हाइड्रोफिलिक सतह तथा मैकेनिकल कठोरता के अंतरसंबंध का पता लगा। यह सुराख विभिन्न कोशाणुओं के फैलाव के लिए पौष्टिक तत्वों के आने-जाने तथा घाव उपचार स्थान पर गैसीय आदान-प्रदान का अवसर देता है।

आईएनएसटी समूह के अनुसार मिश्रित हाइड्रोजेल सभी आयु वर्ग के लोगों के घाव भरने में लाभकारी होगी। इसे इंजेक्ट करने की क्षमता रोगी की पेरेटोनियम को खोले बिना आंतरिक जख्म तक पहुंच सकती है। इसका उपयोग ऊंचे जंगलों में जख्मी होने पर भी किया जा सकता है क्योंकि इसमें घाव भरने के उच्च गुण हैं।

यह टीम अब के-कैरेजिनन-सी फाइकोसिनिन (के-सीआरजी-सी-पीसी) हाइड्रोजेल के काम करने के तरीके और घाव भरने की प्रक्रिया की खोज तलाश कर रही है।

Tags : #Diebieticpatient #diebieties #healthissue #research #newresearch

About the Author


Ranjeet Kumar

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल से पत्रकारिता में मास्टर डिग्री. न्यूज़ चैनल, प्रोडक्शन हाउस, एडवरटाइजिंग एजेंसी, प्रिंट मैगज़ीन और वेब साइट्स में विभिन्न भूमिकाओं यथा - हेल्थ जर्नलिज्म, फीचर रिपोर्टिंग, प्रोडक्शन और डायरेक्शन में 10 साल से ज्यादा काम करने का अनुभव.
नोट- अगर आपके पास भी कोई हेल्थ से संबंधित ख़बर या स्टोरी है, तो आप हमें मेल कर सकते हैं - [email protected] हम आपकी स्टोरी या ख़बर को https://hindi.medicircle.in पर प्रकाशित करेंगे

Related Stories

Loading Please wait...
-Advertisements-



Trending Now

बिहार में मास्क नहीं पहनने पर अब लगेगा 5 सौ रुपए का जुर्मानाNovember 25, 2020
बिहार में मास्क नहीं पहनने पर अब लगेगा 5 सौ रुपए का जुर्मानाNovember 25, 2020
कोरोना काल में जन्में बच्चों का कैसे करें देखभालNovember 25, 2020
महाराष्ट्र में आने से 72 घंटे पहले यात्रियों को कोरोना की होगी जांच November 25, 2020
बवासीर के रोगियों के लिए मूली एवं इसके पत्तों की सब्जी खाना है बेहद फायदेमंदNovember 25, 2020
अच्छी नींद हार्ट अटैक के खतरे को करता है कमNovember 25, 2020
भारत में अबतक साढ़े तेरह करोड़ लोगों का हुआ कोरोना टेस्ट November 25, 2020
मास्क न पहनने की वजह, कोरोना ने लिया महामारी का रूप November 25, 2020
दिल्ली में बढ़ते कोरोना वायरस की एक बड़ी वजह है वायु प्रदूषण November 25, 2020
जाने अधिक संतरा खाने के नुकसान November 25, 2020
सर्दियों में रोज़ हरी मटर खाने से रहेंगी हड्डियां मज़बूतNovember 25, 2020
वैक्सीन उत्पादन में होगी भारत की बड़ी भूमिका - डॉ हर्षवर्धनNovember 25, 2020
ब्लैकहेड्स हटाने के लिये अपनाये इस होममेड स्क्रब को, जाने बनाने का तरीका November 25, 2020
दांत में फोड़ा हो जाने पर क्या करना चाहिये, जाने इसके लक्षणNovember 25, 2020
महाराष्ट्र में कोरोना टीके के वितरण के लिए कार्यबल का किया गया गठनNovember 25, 2020
बस ये 5 चीज आहार में कर ले शामिल, घट जाएगा बढ़ा हुए वजनNovember 24, 2020
सर्दी के मौसम में ऐसी गलती आप न करें, नहीं तो हो सकते हैं बीमारियों के शिकारNovember 24, 2020
सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना टेस्ट के लिए आरटी-पीसीआर जांच के मुल्य निर्धारण हेतु केंद्र सरकार को जारी किया नोटिस November 24, 2020
अगर बिगड़ा हुआ है आपका पाचन, तो करें अनानास का नित्य सेवनNovember 24, 2020
जाने ऐसी पांच सब्जियों के बारे में, जो इम्यूनिटी पॉवर बढ़ाने में मदद करते हैंNovember 24, 2020