सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्रों की स्थापना हेतू पीएम केयर्स फंड ने दिए 201.58 करोड़ रुपये

▴ सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्रों की स्थापना हेतू पीएम केयर्स फंड ने दिए 201.58 करोड़ रुपये

इस व्‍यवस्‍था से सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली और मजबूत होगी और किफायती तरीके से चिकित्सा ऑक्सीजन की उपलब्धता की दीर्घकालिक व्यवस्थित वृद्धि हो सकेगी।


प्रधानमंत्री के आपात स्थिति नागरिक सहायता और राहत (पीएम केयर्स) फंड ट्रस्ट ने देश में सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए अतिरिक्त 162 समर्पित प्रेशर स्विंग एडसोर्पश्‍न (पीएसए) चिकित्सा ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्रों की स्थापना के लिए 201.58 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं।

परियोजना की कुल लागत में संयंत्रों की आपूर्ति और कमीशनिंग और केन्‍द्रीय चिकित्सा आपूर्ति स्टोर (सीएमएसएस) के प्रबंधन शुल्क के लिए 137.33 करोड़ रुपये और व्यापक वार्षिक रखरखाव अनुबंध के लिए 64.25 करोड़ रुपये शामिल हैं।  स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की एक स्वायत्तशासी संस्था- केन्‍द्रीय चिकित्सा आपूर्ति स्टोर (सीएमएसएस) द्वारा खरीदकी जाएगी । कुल 154.19 मीट्रिक टन क्षमता वाले 162 संयंत्र 32 राज्यों / संघ शासित प्रदेशों [अनुलग्नक- I] में लगाए जाने हैं।  जिन सरकारी अस्पतालों में ये संयंत्र स्थापित किए जाने हैं, उनकी पहचान संबंधित राज्यों / संघ शासित प्रदेशों के परामर्श से कर ली गई है।  संयंत्रों की पहले 3 साल की वारंटी होती है। अगले 7 वर्षों के लिए, परियोजना में सीएएमसी (व्यापक वार्षिक रखरखाव अनुबंध) शामिल है।  नियमित ओ और एम अस्पतालों / राज्यों द्वारा किया जाना है। सीएएमसी की अवधि के बाद, पूरा ओ और एम अस्पतालों / राज्यों द्वारा वहन किया जाएगा।

 इस व्‍यवस्‍था से सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली और मजबूत होगी और किफायती तरीके से चिकित्सा ऑक्सीजन की उपलब्धता की दीर्घकालिक व्यवस्थित वृद्धि हो सकेगी। ऑक्सीजन की पर्याप्त और निर्बाध आपूर्ति कोविड-19 के औसत और गंभीर मामलों के प्रबंधन के लिए एक आवश्यक पूर्व-आवश्यकता है, इसके अलावा कई अन्य चिकित्सा स्थितियों में भीइसकी आवश्यकता होती है।

स्टोर और आपूर्ति की प्रणाली पर स्वास्थ्य सुविधा की निर्भरता को कम करने और इन सुविधाओं को अपनी ऑक्सीजन उत्पादन क्षमता का अधिकार प्रदान करने के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं में पीएसए ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर संयंत्रों की स्थापना एक महत्वपूर्ण कदम है। इससे न केवल राज्यों / संघ शासित प्रदेशों के कुल ऑक्सीजन उपलब्धता पूल में वृद्धि होगी, बल्कि इन सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं में रोगियों को समय पर ऑक्सीजन सहायता प्रदान करने में भी सुविधा होगी।

Tags : #pmcaresfund #oxygenproduction #publichealthfacilities #healthfacilities

About the Author


Ranjeet Kumar

Related Stories

Loading Please wait...
-Advertisements-




Trending Now

मध्य प्रदेश में फिर बढ़े कोरोना वायरस के केसेFebruary 25, 2021
जानें क्या है लॉन्ग कोविड? इसके लक्षणFebruary 25, 2021
महाराष्ट्र के 1 स्कूल के 229 बच्चे मिले कोरोना पॉजिटिवFebruary 25, 2021
बच्‍चों को भी जल्द लगेगी कोवैक्‍सीन की डोज, जाने कबFebruary 25, 2021
गर्दन में दर्द होना हो सकता है “माइग्रेन”, ना करे नजरअंदाजFebruary 25, 2021
ये खाद्य पदार्थ आपको समय से पहले कर रहे है बूढ़ा February 24, 2021
ऑर्गेनिक स्किन प्रॉडक्ट्स यूज़ करना स्किन के लिए है बेहतर या नुकसानदेह, इस्तेमाल से पहले ज़रूर जान ले February 24, 2021
दिल्‍ली में कोविशील्‍ड वैक्‍सीन लेने के बाद व्‍यक्ति की मौत, जाने पूरी रिपोर्टFebruary 24, 2021
जाने पित्त की पथरी का घरेलू इलाजFebruary 24, 2021
कपिल शर्मा को जिम में हुई बैक इंजरी, चलना-फिरना हुआ मुश्किलFebruary 24, 2021
इम्यूनिटी बूस्ट करेगा ये 3 योगासन February 24, 2021
मशरूम के सेवन से पुरुषों को मिलेंगे ये चमत्कारिक फायदेFebruary 24, 2021
दिल्ली में बढ़ रही है कोविड-19 संक्रमण की दरFebruary 23, 2021
सांसों से जुड़ी परेशानियों को कम करे इन घरेलु नुस्खो से February 23, 2021
फेस से अनचाहे तिल को हटाने के लिए यूं करें टी ट्री ऑयल का इस्तेमालFebruary 23, 2021
बच्चे की नाक को करे ऐसे साफ़, कुछ आसान टिप्सFebruary 23, 2021
इन 5 लोगों को ब्लड डोनेट नहीं करना चाहिए, जाने किन लोगो को February 23, 2021
जीरे के सेवन से इम्युनिटी होती है बूस्ट February 23, 2021
नींबू का अचार खाने से होता है शुगर लेवल कंट्रोलFebruary 23, 2021
जाने दो बच्चों के बीच होना चाहिए कितना एज गैप?February 22, 2021