हल्दी में छिपा है हड्डियों में हो रहे दर्द का इलाज

▴ turmeric-is-hidden-in-treating-bone-pain

हड्डियों में अक्सर दर्द रहना एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या हो सकती है। लिहाजा समय पर इसकी जांच कराना जरूरी हो जाता है। साथ ही सतर्क रहना बेहद आवश्यक है।


हड्डियों में अक्सर दर्द रहना एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या हो सकती है। लिहाजा समय पर इसकी जांच कराना जरूरी हो जाता है। साथ ही सतर्क रहना बेहद आवश्यक है। यहां पर हम आपको ऑस्टियो आर्थराइटिस के बारे में बताने जा रहे हैं। इस संबंध में एक शोध हुआ है, जो कि बताते हैं कि हल्दी के नियमित सेवन से इस बीमारी में काफी फायदा होता है।  

ऑस्टियो आर्थराइटिस ऑर्थराइटिस ‘कार्टिलेज’ में क्षरण से जुड़ी एक स्वास्थ्य समस्या है। इसमें हड्डियों के सिरों को ढंकने वाली परत पतली, जबकि हड्डियां मोटी होने लगती हैं। नतीजतन व्यक्ति को जोड़ों में असहनीय दर्द का सामना करना पड़ता है। 


-दुनियाभर में 2017 में 30.3 करोड़ से ज्यादा ऑस्टियोआर्थराइटिस के मामले सामने आए 
-60 साल से ऊपर के लगभग 20 फीसदी बुजुर्गों के इस बीमारी से जूझने का है अनुमान
-33% मामलों में ऑस्टियोआर्थराइटिस के शिकार बुजुर्ग चलने-फिरने में असमर्थ हो जाते हैं

ऑस्ट्रेलिया स्थित तसमानिया यूनिवर्सिटी के हालिया अध्ययन में हल्दी को ऑस्टियोआर्थराइटिस का रामबाण इलाज करार दिया गया है। इसमें मौजूद ‘करक्युमिन’ दर्द के एहसास में कमी लाने में बेहद कारगर साबित हो सकता है।

शोधकर्तओं के मुताबिक हल्दी ‘करक्युला लोंगा’ नामक पौधे की सूखी जड़ को पीसकर तैयार की जाती है। इसमें पाया जाने वाला ‘करक्युमिन’  नाम का पॉलीफेनॉल अपने संक्रमण और सूजन रोधी गुणों के लिए मशहूर है। यही वजह है कि जो लोग नियमित रूप से हल्दी का सेवन करते हैं, उन्हें न सिर्फ जोड़ों में सूजन की शिकायत से निजात मिलती है, बल्कि दर्द का एहसास जगाने वाले सिग्नल भी ब्लॉक होते हैं।

अध्ययन के दौरान शोधकर्ताओं ने ऑस्टियोआर्थराइटिस से जूझ रहे 70 मरीजों को दो समूह में बांटा। पहले समूह में शामिल प्रतिभागियों को रोजाना हल्दी से तैयार दो कैप्सूल का सेवन करवाया। वहीं, दूसरे समूह को दर्दनिवारक दवा बताकर साधारण मीठी गोली खिलाई। 12 हफ्ते बाद पहले समूह के प्रतिभागियों ने दूसरे समूह के मुकाबले जोड़ों के दर्द में कहीं ज्यादा राहत मिलने की बात कही। उन्होंने पेनकिलर की खुराक घटाने की भी जानकारी दी। 

शोधकर्ताओं ने दावा किया कि ऑस्टियोआर्थराइटिस के इलाज के लिए फिलहाल पेनकिनर के अलावा कोई और असरदार दवा नहीं है। ऐसे में डॉक्टर हल्दी को एक बेहतरीन साइडइफेक्ट रहित उपचार के रूप में सुझा सकते हैं। प्रतिभागियों के जोड़ों के स्कैन से पता चलता है कि हल्दी उनकी संरचना में कोई बदलाव नहीं लाती, पर सूजन घटाकर पेन सिग्नल को जरूर बाधित कर देती है, जिससे दर्द के एहसास में कमी आती है। अध्ययन के नतीजे ‘एनल्स ऑफ इंटरनल मेडिकल जर्नल’ के हालिया अंक में प्रकाशित किए गए हैं। 

Tags : #bone #bonepain #turmeric #healthtips #newresearch

About the Author


Ranjeet Kumar

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल से पत्रकारिता में मास्टर डिग्री. न्यूज़ चैनल, प्रोडक्शन हाउस, एडवरटाइजिंग एजेंसी, प्रिंट मैगज़ीन और वेब साइट्स में विभिन्न भूमिकाओं यथा - हेल्थ जर्नलिज्म, फीचर रिपोर्टिंग, प्रोडक्शन और डायरेक्शन में 10 साल से ज्यादा काम करने का अनुभव.
नोट- अगर आपके पास भी कोई हेल्थ से संबंधित ख़बर या स्टोरी है, तो आप हमें मेल कर सकते हैं - [email protected] हम आपकी स्टोरी या ख़बर को https://hindi.medicircle.in पर प्रकाशित करेंगे

Related Stories

Loading Please wait...
-Advertisements-



Trending Now

आयोडीन की कमी होने पर कैसे करे इसे दूर जाने यहांOctober 30, 2020
यदि स्तनपान के बाद आपका बच्चा उल्टी कर देता है तो करे ये उपायOctober 30, 2020
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात के केवडिया में आरोग्य वन एवं आरोग्य कुटीर का किया उद्घाटन October 30, 2020
फार्मा क्षेत्र में 2030 तक 120 बिलियन डॉलर निवेश की संभावना October 30, 2020
कोरोना वैक्सिन के वितरण पर सरकार की कवायद हुई तेजOctober 30, 2020
कोरोना से ठीक हुए लोगों में 5 महीने तक रहता है एंटीबॉडी October 30, 2020
भारत में तेज़ी से ठीक हो रहे हैं कोरोना मरीजOctober 30, 2020
नोएडा में फिर से बढ़े कोरोना के मामलेOctober 30, 2020
दिल्ली में लोगों पर दोहरी मार, वायु प्रदुषण की वजह से कोरोना की रफ्तार बढ़ीOctober 30, 2020
रोजाना 15 लाख कोरोना टेस्ट करने का है लक्ष्यOctober 30, 2020
भारत और कम्बोडिया के बीच स्वास्थ्य एवं दवा के क्षेत्र में सहयोग पर हुआ समझौताOctober 30, 2020
केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने देश के पांच राज्यों के कोरोना संक्रमण की स्थिति का लिया जायजाOctober 30, 2020
जाने वो कौन-से तीन पोषक तत्व हैं, जो आपके हेल्थ के लिए बेहद जरूरी हैOctober 29, 2020
डॉ हर्षवर्धन ने जैवचिकित्सीय अवशेष के प्रबंधन पर दिया जोरOctober 29, 2020
तमिलनाडु में कोरोना मरीजों के ठीक होने की दर 94.6 प्रतिशत October 29, 2020
सावधान : ऐसे संकेत दिखाई देने पर ने करे अनदेखा हो सकते है थायराइड के शिकार October 29, 2020
गठिया रोगी करे इस काढ़े का सेवन मिलेगी राहतOctober 29, 2020
यूरिन के 6 अलग-अलग रंग बताते हैं शरीर की परेशानियांOctober 29, 2020
आज वर्ल्ड स्ट्रोक डे के मौके पर हम आपको बतायेंगे बुजुर्ग नहीं बल्कि युवा जल्दी होते हैं स्ट्रोक के शिकारOctober 29, 2020
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिया बड़ा बयान सबको दिया जाएगा कोरोना वैक्सीनOctober 29, 2020