जाने नवरात्रों में किस चीज़ का सेवन करना होगा सही, कुट्टू का या फिर सिंगाड़े का आटा

▴ जाने नवरात्रों में किस चीज़ का सेवन करना होगा सही, कुट्टू का या फिर सिंगाड़े का आटा

नवरात्रि में व्रत रखने वाले पुरुष और महिलाएं कुट्टू के आटे और सिंघाड़े के आटे का उपयोग कर उनकी रोटियां और पूरियां तैयार करते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि इन दोनों प्रकार के आटे में ऐसे पौष्टिक गुण पाए जाते हैं.


क्या आपने कभी इस बात पर गौर किया है कि नवरात्रि हमेशा मौसम में बदलाव के आसपास ही क्यों पड़ते हैं? ऐसा माना जाता है कि साल में इस वक्त के दौरान उपवास रखने से शरीर को कई तरह के फायदे मिलते हैं. नवरात्रि में उपवास के दौरान हमें कुछ खाद्य पदार्थों को बिल्कुल छोड़ने और उन्हें हल्के फूड के साथ बदलना होता है. नवरात्रि में व्रत रखने वाले पुरुष और महिलाएं कुट्टू के आटे और सिंघाड़े के आटे का उपयोग कर उनकी रोटियां और पूरियां तैयार करते हैं. और इन दोनों आटे का प्रयोग इस त्यौहार के दौरान सबसे अधिक किया जाता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि इन दोनों प्रकार के आटे में ऐसे पौष्टिक गुण पाए जाते हैं, जो आपको वजन घटाने में मदद कर सकते हैं. अगर आप इन दोनों के बारे में नहीं जानते हैं तो इस लेख में हम आपको कुट्टू के आटे और सिंघाड़े के आटे में कौन ज्यादा हेल्दी है और कौन सा आटा आपको वजन घटाने में मदद कर सकता है इस बारे में बता रहे हैं.

कुट्टू का आटा - कुट्टू एक प्रकार का फल बीज है, इसीलिए इसे उपवास के दौरान सेवन करने की अनुमति होती है. इस आटे में नट्स जैसा स्वाद होता है और यह सफेद आटे की तुलना में ग्लूटन मुक्त होता है. कुट्टू का आटा शरीर में गर्मी पैदा करता है और इसीलिए इस मौसम में इसे अच्छा माना जाता है. वजन कम करने की कोशिश कर रहे किसी भी व्यक्ति के लिए और तो और हाई ब्लड प्रेशर व हाई कोलेस्ट्रॉल लेवल से पीड़ित लोगों के लिए भी ये आटा अच्छा होता है. इसके अलावा, यह फास्फोरस, विटामिन, मैग्नीशियम और जिंक से भी समृद्ध होता है.

सिंघाड़े का आटा - सिंघाड़े एक ऐसा फल है जो पानी के नीचे पैदा होता और बढ़ता है. सिंघाड़ा सर्दियों में खाया जाने वाला एक प्रसिद्ध फल है, लेकिन सिंघाड़े का आटा पूरे वर्ष उपलब्ध रहता है. ये आटा घने पोषक तत्वों से भरपूर है और इसका उपयोग विभिन्न व्यंजनों को बनाने के लिए किया जा सकता है.

वजन घटाने के लिए कुट्टू का आटा - कुट्टू का आटा वजन घटाने के लिए अद्भुत तरीके से काम करता है क्योंकि इसमें 75 प्रतिशत तक कॉम्पलेक्स कार्बोहाइड्रेट और 25 प्रतिशत तक हाई क्वालिटी वाला प्रोटीन होता है, जो इसे वजन कम करने वाले लोगों के लिए एक आदर्श भोजन विकल्प बनाता है. कुट्टू का आटा खाने से वजन कम होता है और इसमें गेहूं के आटे की तुलना में कम कैलोरी भी होती है. इसके अलावा, यह कोलेस्ट्रॉल और सैच्यूरेटेट फैट और फाइबर व प्रोटीन से भरपूर होता है. कुट्टू का आटा आयोडीन, आयरन, मैग्नीशियम, विटामिन बी 1 और बी 6 से भी समृद्ध होता है. इतना ही न हीं यह ग्लूटेन मुक्त होता है, जो इसे हमारे पाचन के लिए भी अच्छा बनाता है. अपनी डाइट में से ग्लूटेन को हटाना कुछ व्यक्तियों के लिए वजन घटाने के रूप में अद्भुत तरीके से काम कर सकता है.

वजन घटाने के लिए सिंघाड़े का आटा - सिंघाड़े का आटा फाइबर से भरपूर होता है. दरअसल होता यूं है कि फाइबर को पचाने में अधिक समय लगता है और इस तरह आप जरूरत से ज्यादा खाने से बचते हैं. सिंघाड़े का आटा पोटेशियम से भी समृद्ध होता है और इसमें सोडियम की मात्रा भी कम होती है, जो शरीर में वॉटर रिटेंशन में मदद करती है. इतना ही नहीं, सिंघाड़े का आटा कॉम्पलेक्स कार्बोहाइड्रेट और अन्य ऊर्जा बढ़ाने वाले पोषक तत्वों जैसे कैल्शियम, आयरन, जिंक और फास्फोरस का एक उत्कृष्ट स्रोत भी है. व्रत के दौरान ऊर्जा का अभाव होना स्वाभाविक है क्योंकि आप जो भोजन खाते हैं वह आपके नियमित भोजन से अलग होता है.

अपनी व्रत की डाइट में सिंघाड़े को शामिल करने से आपकी ऊर्जा का स्तर बढ़ा रहता है. इस आटे में किसी प्रकार का कोलेस्ट्रॉल नहीं होता है और ये विभिन्न खनिजों, विटामिन और एंटीऑक्सिडेंट से समृद्ध होता है. यह कॉपर, राइबोफ्लेविन से भरा होता है और आपकी थायराइड की समस्याओं को दूर रखने में मदद करता है.

दोनों के बीच बेहतर कौन - कुट्टू और सिंघाड़े का आटा दोनों ही स्वस्थ हैं और हमारे शररी को कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं. कुट्टू का आटा शरीर को गर्मी प्रदान करता है, वहीं सिंघाड़े का आटा शरीर को ठंडा रखने वाले गुण होते हैं. दोनों ही आटे पोषक तत्वों से भरपूर हैं और वजन कम करने के लिए बढ़िया हैं. बस सुनिश्चित करें कि आप इनका सीमित मात्रा में उपभोग करें.

 

 

Tags : #singade #Navshatras #kuttu #flour

About the Author


Taniya Chhari

Healthcare Journalist, and a content writer, Experienced Theatre artist, and belly dancer. [email protected] हम आपकी स्टोरी या ख़बर को https://hindi.medicircle.in पर प्रकाशित करेंगे.

Related Stories

Loading Please wait...
-Advertisements-



Trending Now

सर्दी के मौसम में खुद को कैसे रखें फिट एंड फाइनNovember 26, 2020
इन घरेलू उपाए को अगर अपनाएंगे, तो आपकी त्वचा 60 साल में भी रहेगी चमकदार November 26, 2020
अब उत्तर प्रदेश में मास्क न पहनने वालों पर ड्रोन से रखी जाएगी नज़रNovember 26, 2020
ड्रग्स के सेवन से बन सकते हैं अपाहिज, हो सकते हैं टीबी की बीमारी के शिकार November 26, 2020
बच्चे में चिड़चिड़ापन का कारण हो सकता है, विटामिन डी की कमी- शोध में दावा November 26, 2020
भारत में कोरोना वैक्सीन के उत्पादन और वितरण पर चल रहा है तेजी से कार्य- डॉ. हर्षवर्धन November 26, 2020
कोरोना पर काबू पाने के लिए केंद्र सरकार ने जारी की नई गाइडलाइंस, 1 दिसंबर से होगा प्रभावीNovember 26, 2020
WHO ने कहा कोरोना काल में अधिकतर लोग हो गए हैं आलस्य के शिकार, बढ़ सकती है बीमारियांNovember 26, 2020
सावधान : सर्दियों में गर्म पानी से कितनी देर नहाना चाहिए? पहुच सकता है शरीर को नुकसानNovember 26, 2020
सावधान : हैजा हो जाने पर करे ये, जान भी जा सकती है November 26, 2020
इन आयुर्वेदिक तरीकों से अपनी पाचनशक्ति को बनाएं स्वस्थNovember 26, 2020
अखरोट और दूध का सेवन करने से मिलेगा इन बीमारियों से छुटकाराNovember 26, 2020
28 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया जाएंगेNovember 26, 2020
देश - विदेश में बढ़ रही है औषधीय पौधों की डिमांड - आयुष मंत्रालयNovember 26, 2020
बिहार में मास्क नहीं पहनने पर अब लगेगा 5 सौ रुपए का जुर्मानाNovember 25, 2020
बिहार में मास्क नहीं पहनने पर अब लगेगा 5 सौ रुपए का जुर्मानाNovember 25, 2020
कोरोना काल में जन्में बच्चों का कैसे करें देखभालNovember 25, 2020
महाराष्ट्र में आने से 72 घंटे पहले यात्रियों को कोरोना की होगी जांच November 25, 2020
बवासीर के रोगियों के लिए मूली एवं इसके पत्तों की सब्जी खाना है बेहद फायदेमंदNovember 25, 2020
अच्छी नींद हार्ट अटैक के खतरे को करता है कमNovember 25, 2020